comScore

व्यापारी के घर से जब्त गेहूं की होगी सैम्पलिंग, समिति प्रबंधकों की सांठगांठ से खाद्यान्न की कालाबाजारी

व्यापारी के घर से जब्त गेहूं की होगी सैम्पलिंग, समिति प्रबंधकों की सांठगांठ से खाद्यान्न की कालाबाजारी

डिजिटल डेस्क, सिंगरौली(वैढ़न)। व्यापारी के घर में जियावन पुलिस की कार्रवाई से एक बार फिर गरीबों के निवाले की कालाबाजारी की असलियत सामने आ गई है। समिति प्रबंधकों की सांठगांठ से व्यापारी ने घर में 370 बोरी खाद्यान्न का घर में स्टॉक कर रखा था। व्यापारी के घर से सरकारी खाद्यान्न को जब्त कर पुलिस अब जिला आपूर्ति अधिकारी से जांच कराएगी। पुलिस ने बताया कि राशन दुकानों का गेहूं कालाबाजारी के लिए व्यापारी ने घर में छिपा रखा था।

बताया जाता है कि समितियों ने व्यापारी को सरकारी खाद्यान्न की बिक्री थी। इस सिलसिले में पुलिस ने देवगंवा निवासी रामनरेश पटेल को गिरफ्तार कर कालाबाजारी में शामिल गिरोह का पता लगा रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक व्यापारी घर के अंदर एक कमरे में सरकारी खाद्यान्न को छिपा रखा था।

पीडीएस में फिर माफिया की घुसपैठ
सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सहकारिता माफिया के घुसपैठ की असलियत सामने आने के बाद जिला आपूर्ति अधिकारी और उपायुक्त पीके मिश्रा गोलमोल जबाव दे रहे हैं। उपायुक्त और आपूर्ति अधिकारी का कहना है कि यदि पुलिस द्वारा जांच के लिए पत्र भेजा जाए गा तो समितियों का स्टॉक चेक कराया जाएगा। ऐसे में उपायुक्त और जिला आपूर्ति अधिकारी की भूमिका पर भी सवाल उठने लगे हैं। सूत्रों का कहना है कि सहकारिता और खाद्य विभाग के अफसरों की शह पर समितियां गरीबों के खाद्यान्न पर डाका डाल रही हैं। इसके चलते अफसर स्टॉक की जांच की कार्रवाई से बच रहे हैं।

गौरतलब है कि इसके पहले मोरवा थाना इलाके में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पीडीएस का 200 क्विंटल गेहूं जब्त किया था। इस मामले में भी खाद्य और सहकारिता विभाग के अफसर समितियों को जांच किए बगैर क्लीनचिट दे दी थी। एक फिर सरकारी खाद्यान्न की कालाबाजारी के मामले के सामने आने के बाद फिर अफसर जांच के नाम पर गोलमोल जबाव दे रहे हैं।

चार लाख का गेहूं पकड़ा
पुलिस अधीक्षक दीपक शुक्ला के निर्देश पर जियावन पुलिस ने देवगवां में कार्रवाई करते हुए 4 लाख 15 हजार 908 रूपए का सरकारी खाद्यान्न को जब्त किया है। थाना प्रभारी अनिल उपाध्याय ने बताया कि आरोपी रामनरेश पटेल के खिलाफ भादवि की धारा 407, 414,411 और 3/7 का अपराध कायम किया गया है। सरकारी खाद्यान्न के तौल में 23106 किलोग्राम राशन पाया गया है। इस कार्रवाई में एएसआई सरनाम सिंह, बीसी विश्वास, रमानिवास मिश्रा, प्रधान आरक्षक तेजबहादुर, उमेश द्विवेदी, संतोषी सिंह समेत अन्य पुलिस कर्मी शामिल रहे।

इनका कहना है
पुलिस द्वारा यदि समितियों के स्टॉक की जांच के लिए पत्र भेजा जाता है तो चेक कराया जाएगा। खाद्यान्न का नमूना मिलने के बाद गेहूं की जांच कर रिपोर्ट पुलिस को सौंपी जाएगी।
बीके शुक्ला, जिला आपूर्ति अधिकारी

पुलिस द्वारा सरकारी खाद्यान्न जब्त करने की जानकारी मिली है। यदि पुलिस द्वारा जांच के लिए पत्र भेजा जाए गा तो समितियों के स्टॉक चेक कराया जाए गा।
पीके मिश्रा, उपायुक्त सहकारिता

कमेंट करें
Gf1l4