दैनिक भास्कर हिंदी: प्रदूषण बोर्ड ने एस्सार को थमाया 10 करोड़ जमा कराने का नोटिस, प्लांट बंद कराने की चेतावनी

August 20th, 2019

डिजिटल डेस्क,सिंगरौली(वैढन)। एस्सार पावर बंधौरा की लापरवाही से दूसरी बार फ्लाईऐश डैम फूटने पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भोपाल ने कंपनी प्रबंधन को पर्यावरण क्षतिपूर्ति के लिये 10 करोड़ रूपये जमा कराने नोटिस थमाया है। इसके साथ ही बोर्ड ने पर्यावरण मानकों का पालन नहीं करने, फ्लाईऐश डैम की मरम्मत एवं इनवायरमेंट स्टडी तय सीमा में कराने तक प्लांट बंद कराने की चेतावनी नोटिस भेजा है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने गत दिवस एस्सार के फ्लाईऐश डैम फूटने की घटना का जायजा लेने के बाद कंपनी प्रबंधन को इनवायरमेंट क्लीयरेंस की शर्तों का पूरी तरह से पालन नहीं करने में लापरवाही को लेकर सख्ती दिखाई है। प्रबंधन को डैम मरम्मत कराने भी कहा गया है। नोटिस में 15 दिवस के अंदर जवाब तलब किया गया है। बोर्ड के सदस्य सचिव आरएस कोरी ने नोटिस में कहा है कि उक्त राशि वास्तविक नुकसानी की रिपोर्ट आने तक जमा रहेगी।

जल स्त्रोतों को खतरा

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने खैराही स्थित फ्लाईऐश डैम फूटने से वहां के पेयजल स्त्रोतों पर खतरनाक प्रभाव को लेकर कंपनी प्रबंधन को चेताया है। बताया जाता है कि गांव की कई कुआं, हैंडपंप, ट्यूबवैल, नदी-नाला और तालाब के जल स्त्रोतों में राख भर गई है। जिससे गांव में शुद्ध पेयजल के लिए संकट के हालात पैदा होने की आशंका जताई गई है। बोर्ड ने कंपनी प्रबंधन से वहां के जल स्त्रोतों को साफ कराने की ताकीद करते हुए गंभीर परिणाम नहीं उत्पन्न होने देने की बात कही है।
 

पर्यावरण क्षति की होगी स्टडी

बोर्ड ने एस्सार पावर कंपनी का खैराही स्थित फ्लाईऐश डैम की राख फैलने से वहा के पर्यावरण पर हो रहे प्रतिकूल प्रभावों और उससे होने वाले नुकसान का इनवायरमेंटल स्टडी कराने की भी नोटिस दी है। बोर्ड के सदस्य सचिव आरएस कोरी ने नोटिस में कहा है कि प्रभावित क्षेत्र के पर्यावरण नुकसान का आंकलन कराया जाना आवश्यक है। जिसमें पानी, जलीय जीवों, जानवरों और मानव जीवन पर होने वाले प्रतिकूल प्रभाव की रिपोर्ट का अध्ययन कराया जाएं।

बोर्ड की टीम ने किया दौरा

बताया जाता है कि एस्सार के डैम फूटने का जायजा लेने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक टीम भोपाल से भेजी गई थी ,जिसने स्थानीय अफसरों के साथ खैराही और कर्सुआलाल गांव में एस्सार पावर के ऐश डाइक ऐरिया और फ्लाईऐश डैम की फैली राख का निरीक्षण किया। टीम ने वहां के राख का नजारा देखकर हैरत में रह गए। टीम के सदस्यों ने वहा की वीडियों रिकार्डिंग और फोटोग्राफ भी ले गए। वह जल स्त्रोतों का भी अवलोकन किया साथ ही कुछ स्थानीय लोगों से भी चर्चा की। बोर्ड के स्थानीय कर्मचारियों को रिपोर्ट से दूर रखा गया।

इनका कहना है

मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एस्सार पावर प्रबंधन को इनवायरमेंटल कंपनशेसन 10 करोड़ जमा करने और क्षतिग्रस्त डैम मरम्मत कराने, खेतों से फ्लाईऐश हटवाने एवं इनवायरमेंटल स्टडी कराने नोटिस भेजी गई है। केएल चौधरी, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड