नागपुर: चंद्रपुर और कोराडी बिजली केंद्र को राहत, मिलेगा छत्तीसगढ़ से कोयला

July 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर. महानिर्मिती की छत्तीसगढ़ स्थित गरेपालमा-2 प्रस्तावित कोयला खदान को केंद्रीय वन व पर्यावरण मंत्रालय की मंजूरी मिल गई है। इस प्रकल्प से करीब 3400 युवाआें को रोजगार मिलेगा। इस खदान से चंद्रपुर, कोराडी व  परली बिजली केंद्र को कोयला मिलेगा। 2583.48 हेक्टेयर परिसर में फैले इस कोयला ब्लॉक की क्षमता 22 दशलक्ष मीट्रिक टन प्रति वर्ष खुली खदान से व 1.6 दशलक्ष मीट्रिक टन भूमिगत खदान से है। गरेपालमा-2 इस कोयला खदान से रेलवे से चंद्रपुर, कोराडी व परली वीज केंद्र में कोयला पहुंचेगा। चंद्रपुर महाऔष्णिक विद्युत केंद्र के 500-500 मेगावॉट क्षमता के दो यूनिट, कोराड़ी औष्णिक विद्युत केंद्र के 660 मेगावॉट के 3 यूनिट आैर परली औष्णिक विद्युत केंद्र के 250 मेगावॉट क्षमता का 1 यूनिट,  ऐसे कुल 3230 मेगावॉट क्षमता की बिजली वीज उत्पादन के लिए इस कोयले का उपयोग होगा। अगले तीन महीने में चरण -2 को वन विभाग की मंजूरी मिलना अपेक्षित है। इसके बाद जमीन अधिग्रहण की  प्रक्रिया शुरू होगी। 2023 में खदान से कोयले का उत्खनन आरंभ होने की जानकारी महानिमिर्ती  की तरफ से दी गई है।