दैनिक भास्कर हिंदी: बकरीद के दौरान घर में कुर्बानी पर लगाई रोक बरकरार, बकरा चोरी रोकने डिजिटल तकनीक का सहारा ले रही पुलिस

August 9th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बांबे हाईकोर्ट ने बकरीद के दौरान फ्लैट और घरों में कुर्बानी पर लगी रोक से जुड़े आदेश में किसी तरह के बदलाव से इनकार कर दिया है। कुछ निजी संस्थाओं और लोगों ने गुरूवार को यह मांग करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया था कि कम से कम इस साल के लिए बकरीद के दौरान हाऊसिंग सोसायटी में मौजूद सार्वजनिक जगहों पर कुर्बानी की इजाजत दे दी जाए। न्यायमूर्ति एससी धर्माधिकारी और जीएस पटेल की खंडपीठ ने मुंबई महानगर पालिका को सामुदायिक और धार्मिक जगहों के एक किलो मीटर के दायरे में स्थित घरों और रहिवासी इमारतों के परिसर में कुर्बानी की इजाजत न देने के निर्देश दिए थे। याचिका में एक किलोमीटर के दायरे की शर्त हटाने की अपील की गई थी और इसके लिए सामुदायिक जगहों पर कुर्बानी के लिए पर्याप्त जगह न होने की दलील दी गई थी। अदालत ने ऐसा करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि ऐसी किसी चीज की इजाजत नहीं दी जा सकती जिससे सार्वजनिक स्वास्थ्य और स्वच्छता पर असर पड़े। खंडपीठ ने कहा कि मुंबई इकलौता शहर नहीं है जहां बकरीद में कुर्बानी दी जाती है विश्व के कई शहरों में ऐसा होता है लेकिन कहीं भी खुले में कुर्बानी की इजाजत नहीं दी जाती। खंडपीठ ने मुंबई मनपा के वकील अनिल शेखरे की उस दलील को भी ध्यान में रखा जिसमें उन्होंने जानकारी दी कि शहर में बकरीद के दिन ढाई लाख जानवरों की कुर्बानी की व्यवस्था की गई है। साथ ही शेखरे ने अदालत को जानकारी दी कि मीट की दुकानों के लिए बनाए गए 300 स्लाटर चेंबर (वध कक्ष) बिना इस्तेमाल के पड़े हुए हैं इन्हें ईद के दौरान कुर्बानी के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि अदालत ने हाउसिंग सोसायटियों को कुर्बानी के लिए मनपा में अर्जी देने की इजाजत दे दी लेकिन साथ ही मनपा को निर्देश दिया कि वह 6 अगस्त के आदेश के मुताबिक ही कुर्बानी की इजाजत दे। 

बकरों की चोरी रोकने डिजिटल तकनीक का सहारा ले रहे पुलिस

इसके अलावा बकरीद के दौरान देवनार बकरा मंडी में बकरों की चोरी से परेशान पुलिस ने चोरों को पकड़ने के लिए तकनीक का सहारा ले रही है। पुलिस ने मंडी में आने वाले व्यापारियों के लिए डिजिटल बारकोड युक्त पहचान पत्र जारी किए हैं। पुलिस का दावा है कि इससे चोरी की वारदातों में काफी कमी आई है। पुलिस ने चोरी का पास इस्तेमाल बकरा चोरी की कोशिश कर रहे दो आरोपियों को भी दबोचा है। सीनियर इंस्पेक्टर रागिनी भागवत ने बताया कि ईद के दौरान देवनार स्थित बकरा मंडी में देशभर के व्यापारी करीब ढाई लाख बकरे लेकर बेंचने के लिए आते हैं। हर साल मंडी से बड़ी संख्या में बकरा चोरी की शिकायतें आतीं थीं। पहले व्यापारियों को साधारण पहचानपत्र जारी किए जाते थे। कई बार चोर इन पहचान पत्रों की चोरी करते लेते थे या फर्जी पहचान पत्र बना लेते थे। इसीलिए 31 जुलाई से 14 अगस्त तक चलने वाली बकरा मंडी में शामल होने वाले व्यापारियों के लिए डिजिटल बारकोड युक्त पहचान पत्र जारी करने का फैसला किया गया। इसके बाद पहचान पत्र में छेड़छाड़ कर या नकली पहचान पत्र की मदद लेने वाले दरवाजे पर ही पकड़े जा रहे हैं। सोमवार को पुलिस ने बकरा चोरी कर ले जाने की कोशिश कर रहे ऐसे ही दो आरोपियों को दबोच लिया जब उनके पास मौजूद पहचानपत्र फर्जी साबित हुआ। दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 379 और 34 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है।