comScore

 सिंगरौली में  6 महीने से ज्यादा नहीं रहा एसपी का कार्यकाल 

 सिंगरौली में  6 महीने से ज्यादा नहीं रहा एसपी का कार्यकाल 

 डिजिटल डेस्क  सिंगरौली (वैढऩ) । जिले में पुलिस अधीक्षक जैसे संवेदनशील पद के लिए ऐसा माना जाता है कि एक बार पद स्थापना के बाद कम से कम तीन वर्षों तक जिले में उनकी मौजूदगी रहेगी। जिससे जिला पुलिस यहां के थानों और जनता के बीच घटित होने वाले अपराधों में नियंत्रण पाया जा सके। लेकिन सिंगरौली को बीते तीन वर्षों से यह मौका नहीं मिल पा रहा है। बल्कि यूं कहें कि कोई एसपी एक वर्ष तक भी जिले में नहीं रह पा रहा है। प्रदेश सरकार को सिंगरौली में कानून व्यवस्था की उपलब्धियां दिखती हैं। सम्मान दिये जाते हैं लेकिन पुलिस कप्तान को फिर कहीं न कहीं स्थानांतरित कर दिया जाता है। यह क्रम बीते 36 महीनों से लगातार चला आ रहा है। रूडोल्फ अल्वारिस के बाद से अब तक आधा दर्जन आईपीएस अफसर बदले जा चुके हैं। कुछ ने तो तिमाही भी पूरी नहीं की और कहीं अन्य जिले में स्थानांतरण का आदेश आ गया। आईपीएस अभिजीत रंजन का स्थानांतरण भोपाल मुख्यालय कर दिया गया है।
सिर्फ पुलिस कप्तान के मामले में जारी है उठापटक
जिले के थानों में लम्बे अरसे से थाना प्रभारी, एसडीओपी व अन्य अधिकारी जमे हुए हंै लेकिन एसपी के रूप में बीते तीन वर्षों में कोई भी एसपी एक वर्ष पूरा नहीं कर पा रहा है। जब तक थानों का प्रभार थाना प्रभारियों को देने, एसआई, एएसआई को इधर उधर कर सब कुछ सामान्य होता है तब तक पुलिस कप्तान के स्थानांतरण का फरमान आ जाता है।
अब टीके विद्यार्थी होंगे पुलिस कप्तान
पुलिस टे्रनिंग सेंटर इंदौर में पदस्थ तुषार कांत विद्यार्थी अब जिले के पुलिस कप्तान होंगे। इससे पहले भी श्री विद्यार्थी बतौर सीएसपी विंध्यनगर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। जिससे उनके लिए यह एरिया बहुत नया नहीं होगा। लेकिन बदली हुई परिस्थितयों व भौगोलिक स्थिति के हिसाब से उन्हें अपनी कार्यशैली के अनुसार कार्य करना होगा। रीवा में बतौर लोकायुक्त एसपी अपनी सेवाएं भी दे चुके श्री विद्यार्थी इंदौर से सीधे अपनी सेवाएं देने पहुंच रहे हैं।
 

कमेंट करें
86GeE