नागपुर: चिप्स का पैकेट नहीं लाने पर टीचर ने 6 साल की मासूम को पीटा

March 28th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  चिप्स का पैकेट लाने से मना करने पर ट्यूशन टीचर ने मासूम विद्यार्थी की जमकर पिटाई कर दी। वाकया रविवार को दिनदहाड़े रामबाग में हुआ। प्रकरण थाने पहुंचने पर हवालदार ने मामले को दबाने का हरसंभव प्रयास किया, लेकिन जब चाइल्ड लाइन और कुछ सामाजिक कार्यकर्ता थाने पहुंचे और मामले ने तूल पकड़ा, तो ट्यूशन टीचर के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया गया। 

आंख-कान में दर्द से छटपटा रही थी मासूम
समायरा जब घर पहुंची, तो आंख और कान के पास तेज दर्द होने की शिकायत माता-पिता से की। उसके गाल पर भी पिटाई के निशान थे। दर्द से छटपटा रही समायरा लगातार रो रही थी। माता-पिता से सवाल पूछ रही थी कि, उसकी गलती नहीं थी फिर भी टीचर ने उसे क्यों मारा। जब राहुलकर दंपति इस बारे में वीणा से सवाल-जवाब करने उसके घर पहुंचे, तो वह दंपति को ही पुलिस में शिकायत करने की धमकी देने लगी। 

घर में बिना लाइसेंस के चलाती है ट्यूशन क्लास
आरोपी ट्यूशन टीचर वीणा रतन सालवनकर (53), रामबाग कालोनी निवासी है। वीणा बगैर लाइसेंस के घर में ट्यूशन क्लास संचालित करती है। दर्जनभर मासूम विद्यार्थियों को वह घर में ही पढ़ाती है। 1 मार्च से रामबाग में रहने वाली ममता और गणेश राहुलकर ने बेटी समायरा (6) को वीणा के पास पढ़ाने के लिए भेजा। बताया जाता है कि, पढ़ने के लिए आने वाले बच्चों से वीणा निजी काम कराती है। उन्हें दुकान पर भेजती है। रविवार को उसने समायरा को दुकान से चिप्स का पैकेट लाने के लिए कहा, लेकिन समायरा ने जाने से मना िकया, तो वीणा आगबबूला हो गई और समायरा पिटाई कर दी।  

पुलिस ने दंपति पर समझौता करने का बनाया दबाव
मामला जब थाने पहुंचा, तो पहले पुलिस ने शिकायत लेने से ही मना कर दिया। हवालदार ने प्रकरण दबाने का हरसंभव प्रयास िकया और दंपति पर समझौता करने का दबाव बनाया। उन्हें फटकारा भी। इसकी भनक चाइल्ड लाइन के कार्यकर्ता तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं को लगने पर वे लोग भी थाने जा पहुंचे। मामले को तूल पकड़ता देख आखिरकार पुलिस को मामला दर्ज करना पड़ा, लेकिन गैर कानूनी तरीके से ट्यूशन क्लास चलाने के मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई।