दैनिक भास्कर हिंदी: बैंक घोटाले की जांच टीम पर प्रबंधक के गुर्गों ने तानी बंदूक

January 18th, 2018

डिजिटल डेस्क छतरपुर । जिला सहकारी बैंक घोटाले के हाईप्रोफाइल मामले  की जांच के लिए बड़ामलहरा जा रही टीम पर वीरो समिति के प्रबंधक के गुर्गों द्वारा वाहन को ओवरट्रैक कर  बंदूक  तानने का सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया है। सरेराह अचानक हुई  इस वारदात से जांच टीम के सदस्य दहशत में आ गए है । प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जांच टीम के सदस्य सहकारी बैंक बड़ामलहरा जा रहे थे । इसकी भनक लगते ही कार में सवार जांच टीम के सदस्यों का समिति प्रबंधक के गुर्गों ने पीछा कर कर लिया ।टीम के सदस्य जैसे ही वीरों पहुंचे वैसे ही घोटाले के सूत्रधार के गुर्गों ने उन पर बंदूक की नोंक पर जमकर अभद्रता की। सहकारी बैंक के मुख्य कार्यपालन जे एस ठाकुर घटना की पुस्टि करते हुए बताया विवाद की जानकारी मिली है । उन्होंने बताया टीम द्वारा घटना को लेकर क्या कार्यवाही की गई है उनको इसकी जानकारी नहीं है।
गबन के रिकॉर्ड जब्त
बड़ामलहरा और घुबरा बैंक घोटाले में जांच टीम आज फिर पूछताछ की है । जांच में टीम घोटाले से जुड़े हर पहलू की जानकारी एकत्रित की है । आरोप है कि सेंधपा समिति प्रबंधक जाहर सिंह वीरो समिति के भानुप्रताप अवस्थी और डिकोली के हरिओम द्वारा गोलमाल किया गया है। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित शाखा बड़ामलहरा के सेंधपा सहकारी समितिमें किसानों से ऋण वसूली की गई, लेकिन बैंक की शाखा में रुपए नहीं जमा किए। जांच में यह बात सामने आई है कि  207 किसानों से एक करोड़ 58 लाख की शासकीय राशि का गबन किया गया है। इधर एफआईआर दर्ज करने थाने पहुंचे सीईओ किसानो के लोन की रकम करीबियों के खाते में डाल कर करोड़ों का बंदरबाट करने के मामले में दागियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने सहकारी बैंक के सीईओ जे एस  ठाकुर बड़ामलहरा थाना पहुंचे । सीईओ ने बताया  इस घोटाले को अंजाम देने के लिए बड़ामलहरा और घुबरा के रिकॉर्ड में हेराफेरी की गई है। बताया जाता है कि इस घपले में बड़ेे पैमाने पर सरकारी दस्तावेजो में कूट रचना की गई। तीन सदस्यीय टीम ने बैंकों में रिकॉर्ड की जांच के बाद कर्मचारियों से पूछताछ की है।पुलिस ने सीईओ के जांच प्रतिवेदन पर विवेचना शुरू कर दी है।
चार घंटे तक पूछताछ
बैंकों में जांच करने पहुंची टीम ने घोटाले से जुड़ेे दस्तावेजों को जब्त किए हैं। जांच के दौरान टीम ने बड़ामलहरा में चार कर्मचारियों के बयान रिकॉर्ड किए हैं। बैंकों में जांच टीम के पहुंचने की खबर से दागियों में खलबली मचने लगी है। तीन सदस्यीय टीम के सदस्य कमल कुमार, आरके पांडेय और विवेक मालिक ने करीब चार घंटे तक सघन पूछताछ की है।
इनका कहना है
व्वीरों में भोपाल से घोटाले की जांच के लिए आई टीम के साथ विवाद की जानकारी मिली है। कलेक्टर के निर्देश पर थाने पहुंचकर घोटाले की एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस को जांच प्रतिवेदन सौंपा गया है। जेएस ठाकुर, सीईओ जिला सहकारी बैंक