comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

प्रत्येक शनिवार और रविवार को सम्पूर्ण लॉकडाउन पर सहमति व्यक्त हुई कोविड केयर सेन्टरों की निगरानी व व्यवस्था हेतु अधिकारियों को दायित्व

July 24th, 2020 12:56 IST
प्रत्येक शनिवार और रविवार को सम्पूर्ण लॉकडाउन पर सहमति व्यक्त हुई कोविड केयर सेन्टरों की निगरानी व व्यवस्था हेतु अधिकारियों को दायित्व

डिजिटल डेस्क, विदिशा। जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समिति की बैठक आज कलेक्टर डॉ पंकज जैन की अध्यक्षता में आयोजित की गई थी। जिसमें कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के संबंध में चर्चा कर निर्णयों पर आम सहमति व्यक्त की गई है। जिसमें प्रमुख रूप से विदिशा जिले में प्रत्येक शनिवार और रविवार दोनो दिवसों को सम्पूर्ण लॉकडाउन घोषित पर सहमति शामिल है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा जिले के तीनो कोविड केयर सेन्टरों के लिए पृथक-पृथक अधिकारियों को निगरानी व सुव्यवस्थाओं के लिए दायित्व सौंपे है। अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय में संचालित कोविड केयर सेन्टर की सम्पूर्ण व्यवस्थाओं के लिए कॉ-आपरेटिव बैंक के सीईओ श्री विनय प्रकाश सिंह का मोबाइल नम्बर 7089902700 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। इसी प्रकार सिरोंज एवं लटेरी के कोविड केयर सेन्टर हेतु सहकारी संस्थाएं के उप पंजीयक श्री केके द्विवेदी का मोबाइल नम्बर 9424652412 तथा आरईएस के कार्यपालन यंत्री श्री शरद तंतुवाय को मोबाइल नम्बर 9009019221 को तथा बासौदा के कोविड केयर सेन्टर के लिए जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक श्री पीडी वंशकार का मोबाइल नम्बर 9893091046 को दायित्व सौंपा है। नियुक्त नोडल अधिकारी संबंधित कोविड केयर सेन्टरों में भर्ती मरीजो को शासन की मंशा के अनुरूप तमाम बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराए जाने के प्रबंधो का क्रियान्वयन करेंगे। नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभाकक्ष में सम्पन्न हुई इस बैठक में विदिशा नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन, कुरवाई विधायक श्री हरि सिंह सप्रे, सिरोंज विधायक श्री उमाकांत शर्मा, बासौदा विधायक श्रीमती लीना जैन, शमशाबाद विधायक श्रीमती राजश्री रूद्रप्रताप सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री तोरण सिंह दांगी, भाजपा जिलाध्यक्ष श्री राकेश जादौन के अलावा समिति के अन्य सदस्यगण तथा पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा, जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे। जिले में सम्पूर्ण लॉकडाउन दिवस शनिवार, रविवार को सब्जी मंडी भी बंद रहेंगी पर भी समिति के सदस्यों द्वारा सहमति व्यक्त की गई है शेष अतिआवश्यक सेवाएं पूर्वानुसार नियत समयावधि तक संचालित हो सकेगी। जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए मास्क और सोशल डिस्टेन्स पर विशेष बल दिया गया है। इसी प्रकार कंटेनमेंट जोन में बाहरी आवाजाही ना हो सकें के पुख्ता प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन ने कोरोना वायरस के संक्रमण को कम करने के लिए सामाजिक संगठनों को शामिल करते हुए जागरूकता कार्यक्रमों से संदेश देने साथ ही समाज के प्रमुख व्यक्तियों को 10 से 15 परिवारों की जिम्मेदारी सौंपने का सुझाव रखा है। इसी प्रकार विधायकों के द्वारा दिए गए सुझावों पर अमल कर निर्णय लेने पर आम सहमति बनी है। सिरोंज विधायक श्री उमाकांत शर्मा ने सिरोंज में कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा जो जनहितैषी निर्णय लिए जा रहे है उनका क्रियान्वयन मानव हित में किया जाए। साथ ही स्थानीय नागरिकों, गणमान्य नागरिकों को विश्वास में लिया जाए। उन्होंने कोविड केयर सेन्टरों में तमाम प्रबंध बेहतर हो पर जोर देते हुए कहा कि जिम्मेवारी एक दूसरे पर ना टाली जाए। डाक्टर दो शिफ्टो में विजिट करें। इस दौरान प्रति मरीज के लिए भोजन, चाय, नाश्ता के लिए निर्धारित राशि सौ रूपए में वृद्वि करने पर भी सहमति व्यक्त की गई है। इसी प्रकार प्रत्येक कोविड केयर सेन्टर की डाइट मीनू का प्रदर्शन पर सहमति व्यक्त की गई है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के द्वारा समयावधि में संचालन बंद नही किया जाता है तो उनके खिलाफ पांच सौ रूपए जुर्माना व सोमवार को बंद रखने के निर्णय पर सहमति व्यक्त की गई है। इसी प्रकार दुकानो में व्यापारियों द्वारा मास्क का उपयोग किया जा रहा है कि नहीं तथा ग्राहकों को मास्क पहनने के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है कि नहीं इत्यादि की अब सघन जांच पड़ताल हेतु अन्य जिलाधिकारियें को दायित्व सौंपे गए हैं कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि रोको-टोको अभियान के अलावा अब गोपनीय तौर पर वीडियो बनाए जाएंगे जिनका उपयोग साक्ष्य के रूप में किया जाएगा। बैठक में सोशल डिस्टेन्सिग पर विशेष बल देते हुए बैंकिंग संस्थानो के अलावा अनेक शासकीय कार्यालयों तथा आधार पंजीयन स्थलों पर अत्यधिक जनमानस का जमावडा ना हो के लिए विशेष प्रबंध सुनिश्चित करने पर सहमति व्यक्त की गई है।

कमेंट करें
v2Xgo
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।