दैनिक भास्कर हिंदी: रीवा में कोयला कारोबारी के घर पर आयकर टीम का छापा

January 11th, 2019

डिजिटल डेस्क, रीवा। आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग ने शुक्रवार की सुबह रीवा में छापामारी की है। भोपाल, जबलपुर और इन्दौर की संयुक्त टीम ने कोयला कारोबारी संजय मिश्र के अर्जुन नगर और व्यापारिक सहयोगी मनीष गुप्ता के व्यकंट मार्ग पर स्थित आवास में सुबह होते ही दबिश दे दी। भारी सुरक्षा बल के साथ दबिश देने के साथ ही आयकर विभाग की टीम इनकी सम्पत्ति का हिसाब-किताब लेने के कार्य में जुट गई। आयकर विभाग की स्थानीय टीम को इस कार्यवाही से पूरी तरह अलग रखा गया है। इन दोनों कारोबारियों के यहां जांच कार्य शनिवार तक पूरा होने की संभावना है।

13 वाहन में सवार होकर आए 70 लोग
टैक्सी चोरी की संभावना के बीच छापे की इस कार्यवाही को अंजाम देने के लिए आयकर विभाग की जो इंवेस्टिगेशन विंग रीवा आई है, उसमें 70 लोग हैं। ये सभी 13 वाहन में सवार होकर रीवा आए हैं। इस दल में सुरक्षा के मद्देनजर सशस्त्र बल भी शामिल हैं। महिला पुलिस को भी टीम में रखा गया है। संजय मिश्रा और मनीष गुप्ता के आवास के बाहर कड़ा पहरा है। दोनों के यहां आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग के अधिकारी और कर्मचारी लगातार जांच कार्य में जुटे हुए हैं।

गहरी नींद में थे, तभी पहुंच गए
कोयला कारोबारी संजय मिश्रा और उनके सहयोगी मनीष गुप्ता के यहां जिस समय टीम ने दबिश दी, परिवार के ज्यादातर सदस्य गहरी नींद में सो रहे थे। टीम ने पहुंचते ही इनके घरों को घेर लिया। घर का कोई भी सदस्य बाहर नहीं निकल पाया। इनके मोबाइल आदि भी रख लिए। इन्हें किसी से सम्पर्क नहीं करने दिया। दबिश देने के साथ ही टीम ने अपना कार्य शुरू कर दिया। इनके यहां कारोबार से जुड़े जो कागजात हैं, उनका परीक्षण किया जा रहा है। ज्वेलरी, कैश आदि का भी हिसाब लिया जा रहा है।

महाकालेश्वर ग्रुप का बड़ा कारोबार
अर्जुन नगर में रहने वाले संजय मिश्र मूलत: ढेरा गांव के निवासी हैं। बाबा रामदेव से जुड़ते हुए इन्होंने उनके संगठन के जिला अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया है। महाकालेश्वर माइंस एण्ड मिनरल्स प्राइवेट लिमिटेड नाम की उनकी फर्म है। बताते हैं कि कोयला कारोबार के साथ ही स्टोन क्रके्रसर के भी संचालक हैं। देश के कई शहरों में इनका कारोबार फैला है। बताते हैं कि मनीष गुप्ता का भी इनके व्यापार में काफी सहयोग है। इस वजह से उनके यहां भी आयकर विभाग ने छापा मारा है। इसके अलावा वे कृषि उपकरणों के बड़े व्यापारी है। प्रापर्टी का भी बड़ा काम हैं। पूर्व में सेल्स टैक्स का छापा भी इनका यहां पड़ चुका है।

स्थानीय पुलिस ने सम्हाला मोर्चा
व्यस्ततम व्यंकट मार्ग पर मनीष गुप्ता के यहां आयकर विभाग की कार्यवाही के दौरान व्यवस्था बनाए रखने के लिए स्थानीय पुलिस को भी मुस्तैदी दिखानी पड़ी। आज उनका कृषि उपकरणों का प्रतिष्ठान नहीं खुला। छापामारी करने आए दल के वाहन बाहर खड़े रहे। व्यस्ततम मार्ग होने की वजह से जाम की स्थिति निर्मित हो रही थी। यहां यह भी गौरतलब है कि मनीष गुप्ता विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

 

खबरें और भी हैं...