comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

उज्जैन: नवनिर्मित विधि महाविद्यालय ‘सम्राट विक्रमादित्य विधि महाविद्यालय’ के नाम से जाना जायेगा

October 09th, 2020 15:15 IST
उज्जैन: नवनिर्मित विधि महाविद्यालय ‘सम्राट विक्रमादित्य विधि महाविद्यालय’ के नाम से जाना जायेगा

डिजिटल डेस्क, उज्जैन। उज्जैन केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत के मुख्य आतिथ्य तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव की अध्यक्षता में आज गुरूवार 8 अक्टूबर को विश्व बैंक परियोजना रूसा के अन्तर्गत नवनिर्मित साढ़े छह करोड़ रुपये की लागत से शासकीय विधि महाविद्यालय का लोकार्पण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत ने उज्जैनवासियों को भव्य विधि भवन कॉलेज की सौगात के लिये बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इन्दौर के साथ-साथ उज्जैन में भी निरन्तर विकास कार्य हो रहे हैं। उच्च शैक्षणिक संस्थाओं में जो भी कमी होगी, उच्च शिक्षा विभाग उसको पूरा करेगा। उनके द्वारा विक्रम विश्वविद्यालय कैम्पस में 250 सीटर छात्रावास भवन की पूर्व में स्वीकृति प्रदान की गई थी, उसका भी शीघ्र कार्य प्रारम्भ किया जायेगा। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत ने कहा कि हमारे देश में कानून सर्वश्रेष्ठ है और ऐतिहासिक विधि महाविद्यालय की उपलब्धी मिलने से छात्रों को कानून की पढ़ाई कर आगे बढ़ेंगे। उनके द्वारा दिव्यांगों के लिये कृत्रिम अंग बनाने का कारखाना का निर्माण किया गया है। इसका विस्तारीकरण करने हेतु अतिरिक्त भूमि की आवश्यकता है। विस्तारीकरण करने के लिये अतिरिक्त भूमि को शीघ्र जिला प्रशासन के द्वारा स्वीकृति प्रदान कर दी जायेगी। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने इस अवसर पर कहा कि नवनिर्मित विधि महाविद्यालय का नाम सम्राट विक्रमादित्य विधि महाविद्यालय के नाम से जाना जायेगा। महाविद्यालय की बाउंड्री वाल एवं देवास मेनरोड से महाविद्यालय तक एप्रोच रोड बनाने के लिये भी 40 लाख रुपये की स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। उन्होंने कहा कि उज्जैन संभाग में जितने भी शासकीय महाविद्यालय हैं, उनमें जो-जो भी संसाधनों की कमी होगी, उन सबको पूरा किया जायेगा। डॉ.यादव ने कहा कि माधव महाविद्यालय भवन 129 वर्ष पुराना है। उस भवन को हैरिटेज भवन बनाया जायेगा। माधव कॉलेज में आर्ट, कामर्स एवं विधि के छात्र विद्याध्ययन कर रहे थे, अब उन्हें आर्ट एवं कामर्स के छात्र को अलग महाविद्यालय में शिफ्ट किया जा रहा है। विधि के छात्र इस नवनिर्मित भवन में शिफ्ट हो जायेंगे। इच्छुक छात्राएं जीडीसी महाविद्यालय में प्रवेश ले सकेंगी। इसी तरह कलेक्टर एवं कमिश्नर कार्यालय कोठी महल में लगता है, वह भी शीघ्र 14 जनवरी के पूर्व कोठी के समीप बन रहे नये भवन में शिफ्ट हो जायेगा। नये न्यायालय भवन के सामने अभी वर्तमान में विक्रम नगर स्टेशन की ओर रिंग रोड पहुंचने का मार्ग था। अब एक और न्यायालय भवन के समीप से रिंग रोड पहुंचने का मार्ग बनाया जायेगा। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति मानवता के लिये श्रेष्ठ शिक्षा नीति है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी जहां आवश्यकता होगी, वहां कॉलेज खोले जायें और जहां कॉलेज हैं, उन्हें और अच्छे से विकसित किया जायेगा। नवीन विधि महाविद्यालय में 10-10 प्रतिशत छात्रों को एलएलबी एवं एलएलएम की सीटों में वृद्धि की जायेगी। सांसद श्री अनिल फिरोजिया ने इस अवसर पर कहा कि उज्जयिनी में अनादिकाल से शिक्षा का महत्व है। उज्जैन में विकास के कार्य निरन्तर हो रहे हैं और उज्जैनवासियों को सौगातें मिल रही हैं। उन्होंने उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके पास एक से एक नये-नये विजन हैं और उसी विजन को लेकर उज्जैन में विकास कार्यों की सौगातें दे रहे हैं। उन्होंने मांग की कि उज्जैन में कृषि महाविद्यालय और मेडिकल कॉलेज भी खोले जायें, ताकि उज्जैन एजुकेशन हब बन सके। विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश पाण्डेय ने अपने उद्बोधन में कहा कि विधि के क्षेत्र में शिक्षा का बहुत महत्व है। कानून की जानकारी सबको होना चाहिये। युवाओं को एक अच्छी सौगात उज्जैन में विधि महाविद्यालय खुलने से मिली है, जिसका युवावर्ग लाभ ले। उज्जैन में प्राचीनकाल से अनमोल प्रतिभाएं हुई हैं। युवावर्ग उन प्रतिभाओं का अध्ययन कर लाभ ले। श्री विवेक जोशी ने इस अवसर पर कहा कि उज्जैन को जो सौगात मिली है, वह जनप्रतिनिधियों के आपसी समन्वय से संभव हुआ है। विधि महाविद्यालय के खुलने के लिये सबको बधाई एवं शुभकामनाएं दी। अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा श्री आरसी जाटवा ने कहा कि उज्जैन जिले में अभी तक 16 शासकीय महाविद्यालय हैं। अब विधि महाविद्यालय खुलने से जिले में अब 17 महाविद्यालय हो गये हैं।

कमेंट करें
fiCsv
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।