comScore

ट्रूनॉट की जांच में फिर मिला 1 संभावित कोरोना पॉजिटिव

ट्रूनॉट की जांच में फिर मिला 1 संभावित कोरोना पॉजिटिव

डिजिटल डेस्क  सिंगरौली (वैढऩ)। जिले में कोरोना का खतरा अब भी कम नहीं हुआ है। मंगलवार को जिले में फिर से कोरोना संक्रमण का एक और संभावित पॉजिटिव ट्रूनॉट मशीन की जांच में पाया गया है। यह संदिग्ध देवसर विकासखंड के ग्राम कुर्सा का निवासी बताया जाता है, जो कि 7 मई को जिले में गुजरात के सूरत से आया था। ट्रूनॉट मशीन की जांच में मिलने वाले कोरोना पॉजिटिव के केस को कन्फर्म नहीं माना जाता है। इसलिये नियमत: इस संदिग्ध युवक का सैम्पल मंगलवार को श्याम शाह मेडिकल कॉलेज रीवा की लैब में भेजा गया है। इस संदिग्ध युवक समेत जिले से मंगलवार को कुल 42 सैम्पल रीवा की लैब में भेजे गये हैं। जिसमें सभी 6 से 70 वर्ष की उम्र के बताये जाते हैं। इनमें चितरंगी के ग्राम ठठरा के कोविड केयर सेंटर में भर्ती 6 कोरोना संक्रमितों के सैम्पल भी शामिल हैं। जबकि एरियावार सबसे ज्यादा 12 लोग जिले में कोरोना के एपिसेंटर बनाये गये ग्राम रमडिहा, 10 लोग कंटेनमेंट एरिया घोषित ग्राम ठठरा और बाकी अन्य लोग चितरंगी, जयंत, मोरवा, सासन, निगाही, वैढऩ के गनियारी, दुधिचुआ, अमलोरी व देवसर क्षेत्र के बताये जाते हैं। वहीं इसके अलावा करीब 53 सैम्पल ट्रूनॉट में टेस्टिंग के लिये भी मंगलवार को कलेक्ट किये गये हैं। 
घर लौटा जिले का पहला कोरोना पॉजिटिव
सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात जिले का फस्र्ट कोरोना पॉजिटिव पाया गया युवक अपने चितरंगी के ग्राम रमडिहा में घर वापस लौट आया। संक्रमित पाये जाने के बाद उसे रीवा के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। जिले का फस्र्ट कोरोना पॉजिटिव स्वस्थ्य होकर सोमवार को जब रीवा से अपने घर के लिये निकला, तो वहां उस पर रीवा कमिश्नर व अन्य अधिकारियों द्वारा पुष्प वर्षा कर श्रीफल भेंट करते हुये कोरोना पर जीत हासिल करने प्रोत्साहित किया गया। रीवा से एम्बुलेंस द्वारा देर रात करीब 1 बजे घर पहुंचने के बाद युवक का गांव में भी जमकर स्वागत हुआ। स्वागत करने वालों में रमडिहा गांव के हल्का पटवारी, सरपंच, सचिव, सहायक सचिव से लेकर अन्य ग्रामीणों व उसके परिजन शामिल रहे। मंगलवार को एसडीएम नीलेश शर्मा ने भी कोरोना पर जीत हासिल करने वाले इस युवक का हालचाल जाना और उसका उत्साह बढ़ाया।
1-1 लाख में दो बसें बुक करके लुधियाना से आये श्रमिक
कोरोना संकट के दौर में जिले के बाहर फंसे श्रमिकों का बड़ी संख्या में जिले में आना अब भी जारी है। इसी क्रम में मंगलवार को जिला मुख्यालय वैढऩ के राजमाता चूनकुमारी स्टेडियम में दो बसें करीब 39 श्रमिक परिवारों को लेकर पंजाब राज्य के लुधियाना से पहुंचीं। बताया जाता है कि ये सभी श्रमिक जिन बसों से अपने घर लौटे हैं, इन दोनों बसों को इन श्रमिकों ने स्वयं के खर्च पर 1-1 लाख रूपये में बुक किया था। ऐसे में श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के प्रशासनिक इंतजामों की पोल भी खुलती है। मंगलवार को जब ये सभी श्रमिक स्टेडियम पहुंचकर संकट के दौर में घर पहुंचने की दास्तां बताने लगे तो हर कोई चौंक उठा। इन श्रमिकों ने बताया कि ये करीब डेढ़ माह से लुधियाना से सिंगरौली आने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन कोई सुविधा न मिलने पर मजबूर जमापूंजी लगाकर बस बुक करके घर आये हैं। स्टेडियम पहुंचे सभी श्रमिकों की स्क्रीनिंग की गई और सभी को भोजन के पैकेट्स दिये गये। ये सभी ज्यादातर जिले के ग्राम घिनहा गांव, गोंदवाली, परिहासी, मझिगवां सेत के निवासी बताये जाते हैं। 
इनका कहना है
ट्रूनॉट में देवसर क्षेत्र का एक युवक पॉजिटिव पाया गया है, लेकिन उसे हम कन्फर्म नहीं मान सकते हैं। कन्फर्म रिपोर्ट के लिये उसका सैम्पल मंगलवार को रीवा की लैब में भेजा गया है, रिपोर्ट आने के बाद बाद ही पुष्टि हो सकेगी।
- केवीएस चौधरी, कलेक्टर
 

कमेंट करें
IwnXs