दैनिक भास्कर हिंदी: सड़क हादसे में जीजा और साले की मौत

June 15th, 2018

डिजिटल डेस्क, रीवा। मजदूरी कर के घर लौट रहे जीजा साले की सड़क हादसे में मौत हो गयी। गोविन्दगढ़ थाना क्षेत्र में हुए हादसे में घायल इन दोनों को गंभीर हालत में उपचार के लिए संजय गांधी स्मृति हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां इनकी मौत हो गई। मृतकों में रीवा जिले के बिछिया थाना क्षेत्र अंतर्गत भटलो निवासी रावेन्द्र साकेत पुत्र राममिलन 28 वर्ष और उसका साला रोहित पुत्र राजू 20 वर्ष शामिल है। रोहित सतना जिले के कोटर अबेर गांव का रहने वाला है, जो एक माह पहले रोजी-रोटी के लिए अपने जीजा के पास आ गया था। यहीं से दोनों मजदूरी के लिए साथ-साथ गोविन्दगढ़ जाते थे।

गुरूवार को गोविन्दगढ़ से लौटते समय नकटा मोड़ के समीप ट्रेक्टर की चपेट में आने से ये दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस घटना की जानकारी मिलते ही रावेन्द्र और रोहित के गांव से परिजन अस्पताल पहुंच गए थे, लेकिन इन दोनों की ही मौत हो गई। शुक्रवार की सुबह दोनों का पोस्टमार्टम कर शव परिजन के सुपुर्द किया गया। अस्पताल से जीजा और साले के शव अलग-अलग वाहनों से भटलो और कोटर अबेर के लिए रवाना हुए।

शिशु गृह में बच्ची की हालत बिगड़ी
अस्पताल में तोड़ा दम- सिंगरौली जिले से पच्चीस दिन पहले  आंचल शिशु गृह रीवा भेजी गई ढाई माह की बच्ची ने दम तोड़ दिया। इस बच्ची को तबियत बिगड़ने पर गांधी स्मृति हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां कुछ देर में ही उसकी मौत हो गई। बच्ची की मौत होने पर पुलिस को जानकारी दी गई। समान थाना क्षेत्र अंतर्गत मानस नगर में निवेदिता कल्याण समिति द्वारा संचालित आंचल शिशु गृह में शून्य से छह वर्ष तक के बच्चों को रखा जाता है।

जानकारी के अनुसार 18 मई को लगभग ढाई माह की इस बच्ची कुमारी प्रतिक्षा आंचल शिशु गृह आई थी। बताया जा रहा है कि यह बच्ची सिंगरौली में 27 मार्च को मिली थी। जहां वह अस्पताल में रही। आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण कर उसे रीवा भेजा गया था।  गुरूवार की देर शाम उसकी सांस तेज-तेज चलने लगी। जिस पर उसे शिशु गृह प्रबंधन द्वारा तत्काल ही गांधी स्मृति हॉस्पिटल भेजा गया, जहां रात में उसने दम तोड़ दिया। जानकारी के अनुसार 31 मई को भी उसकी तबियत खराब हुई थी।