दैनिक भास्कर हिंदी: महिला कैदी ने दिया बच्चे को जन्म, तीन साल बाद जेल में गूंजी किलकारी

April 14th, 2018

डिजिटल डेस्क रीवा । केन्द्रीय जेल में महिला कैदी ने एक बच्चे को जन्म दिया है। तीन साल बाद ऐसा मौका आया है जब जेल में किसी नवजात की किलकारी गूंजी है। प्रसव के बाद महिला को अस्पताल से बच्चे सहित केन्द्रीय जेल में शिफ्ट कर दिया गया है। बताया गया है कि सिंगरौली निवासी 25 वर्षीय एक महिला को सीधी न्यायालय से दहेज के मामले में 7 साल की सजा पड़ी थी। जिस समय महिला को सजा हुई उस वक्त वह गर्भवती थी। जिला जेल में गर्भवती महिला कैदियों के लिए व्यवस्था न होने की वजह से उसे सीधी जिले से केन्द्रीय जेल रीवा के लिए स्थानांतरित कर दिया गया। जनवरी 2018 में महिला कैदी केन्द्रीय जेल पहुंची। गर्भवती होने की वजह से जेल प्रशासन ने महिला की व्यवस्था की। कल महिला कैदी को प्रसव के लिए संजय गांधी चिकित्सालय के प्रसूति वार्ड में भर्ती कराया गया जहां उसने एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया। आज महिला को वापस केन्द्रीय जेल के महिला बैरक में लाया गया है। चिकित्सकों के परामर्श के बाद महिला कैदी को आवश्यक पौष्टिक आहार जेल प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराया जा रहा है। जेल प्रबंधन ने महिला कैदी के प्रसव की सूचना उसके परिजनों को दे दी है। इस संबंध में केन्द्रीय जेल के वरिष्ठ कल्याण अधिकारी डीके सारस का कहना है कि लगभग तीन साल पहले भी एक महिला कैदी ने बच्चे को जन्म दिया था। कल जिस महिला कैदी ने नवजात को जन्म दिया है, वे दोनों स्वस्थ्य हैं।
पत्नी के सिर पर मारा हथौड़ा, हालत गंभीर-पति-पत्नी के बीच हुए विवाद में हथौड़ा चल गया। गुस्साए पति ने अपनी पत्नी के सिर पर हथौड़े से प्रहार कर उसे लहूलुहान कर दिया। महिला को गंभीर हालत में उपचार के लिए संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। इस घटना की रिपोर्ट घायल महिला के पिता ने थाना में दर्ज कराई है। पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है। यह घटना लौर थाना क्षेत्र के ग्राम तड़ौरा की है। पुलिस ने बताया कि विद्या गिरि 24 वर्ष का अपने पति आशीष के साथ किसी बात को लेकर विवाद हो गया। इसी विवाद के बीच पति ने हथौड़ा उठाया और विद्या के सिर पर मार दिया। सिर पर हथौड़ा लगते ही वह लहूलुहान हो गई। इसकी जानकारी 108 को दी गई, जिस पर एम्बुलेंस मौके पर पहुंची और घायल विद्या को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। इसकी जानकारी मिलते ही  मायके से पिता सहित अन्य लोग अस्पताल पहुंच गए। यहां से लौर थाना पहुंचकर एफआईआर दर्ज कराई।