comScore

जानिए कैसे सूर्य रेखा दिलाती है समाज में पद और प्रतिष्ठा?

August 09th, 2018 16:20 IST
जानिए कैसे सूर्य रेखा दिलाती है समाज में पद और प्रतिष्ठा?

डिजिटल डेस्क । हमारे हाथों में कई तरह की रेखाएं होती हैं, लेकिन कुछ रेखाएं ऐसी होती हैं जो आपकी किस्मत पलट सकती हैं। ऐसी रेखाओं में किसी भी इंसान को राजा से रंक और रंक से राजा बनाने की ताकत होती है। वैसे कहा तो ये भी जाता है कि रेखाएं आपके कर्म से बनती और बिगड़ती है, लेकिन कुछ पर हमारा जोर नहीं होता है। आज हम आपको ऐसी ही रेखा के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको किसी फिल्म स्टार या करोड़पति की तरह शोहरत और दौलत दिलाती है। आइए जानते है इंसान को नेम और फेम दिलाने वाली वो रेखा कौनसी होती है। 

ये रेखा अनामिका अंगुली के नीचे सूर्य पर्वत पर देखने को मिलती है। सूर्य रेखा, जीवन-रेखा, चन्द्र-पर्वत, मंगल के मैदान, मस्तक-रेखा एवं ह्रदय रेखा के किसी भी स्थान से शुरू हो सकती है। इसे अपोलो रेखा, बुद्धि की रेखा या सफलता की रेखा भी कहते है। भाग्य रेखा की तरह इसके प्रभाव को हाथ की बनावट के अनुसार देखना चाहिए। जैसे दार्शनिक, नुकीले एवं चपटे हाथों पर ये साफ दिखाई देती है।

कमेंट करें
NAFrq
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।