फैक्ट चैक: सोशल मीडिया पर वायरल पुलिस कार्रवाई का वीडियो क्या कानपुर हिंसा से संबंधित है?  जाने सच 

June 10th, 2022

हाईलाइट

  • वायरल वीडियो साल 2020 में ठाणे के मुंब्रा में हुई झड़प का है जिसे हाल ही में हुई कानपुर हिंसा से जोड़कर शेयर किया जा रहा है

डिजिटल डेस्क, भोपाल। सोशल मीडिया पर इन दिनों एक पुलिस कार्रवाई का एक वीडियो वायरल है, 18 सेकंड के इस विडियो में कुछ पुलिसकर्मी लाठीचार्ज करते हुए दिख रहे हैं। वायरल वीडियो को सोशल मीडिया पर वीडियो को कानपुर हिंसा से जोड़कर शेयर किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो हाल ही में कानपुर में हुई हिंसा के बाद का है। 

इस वीडियो को अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस पर इसी दावे के साथ शेयर किया गया है। हिंदू युवा वाहिनी के गुजरात प्रदेश प्रभारी योगी देवनाथ ने भी वीडियो को ट्वीट करते हुए दावा किया कि कानपुर हिंसा के बाद यूपी पुलिस ने पत्थरबाजों की जमकर खबर ली।

 

और भी ट्विटर यूजर्स ने भी वायरल वीडियो का कानपुर हिंसा से जुड़ा बताकर शेयर किया।

 

ट्विटर के साथ फेसबुक पर भी ये वीडियो ऐसे ही दावे के साथ शेयर किया गया है।


पड़ताल – वीडियो के बारे में सही जानकारी पाने के लिए हमने वीडियो के एक फ्रेम को यांडेक्स पर रिवर्स सर्च की सहायता से सर्च किया। जिसमें हमें यह वायरल वीडियो यूट्यूब पर 28 मार्च 2020 को अपलोड किया हुआ मिला। वीडियो में एक कैप्शन भी है। कैप्शन में इस वीडियो को मुंब्रा के कौसा का बताया गया है। बता दें कि मुंब्रा महाराष्ट्र के ठाणे में आता है।


हिंदुस्तानी रिपोर्टर नाम के यूट्यूब चैनल ने इस घटना की खबर दी थी। इस रिपोर्ट में वायरल वीडियो वाला भाग 1 मिनट 12 सेकंड के बाद शुरु होता है। चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक, ठाणे के कौसा इलाके में एनसीपी पार्टी के दो नगरसेवकों के गुटों में विवाद हुआ था। विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों गुटों के बीच झड़प हो गई। यह झड़प 27 मार्च 2020 में रात 11:30 के लगभग हुई थी। पुलिस ने मामले को बढ़ने से रोकने के लिए लाठीचार्ज किया था। वायरल वीडियो इसी लाठीचार्ज का है।


इस पड़ताल से साफ है कि ये वीडियो साल 2020 में ठाणे के मुंब्रा में हुई झड़प का है जिसे हाल ही में हुई कानपुर हिंसा से जोड़कर शेयर किया जा रहा है।