comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Oppo Reno Ace 10 आज होगा लॉन्च, लीक हुई कीमतें

Oppo Reno Ace 10 आज होगा लॉन्च, लीक हुई कीमतें

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Oppo अपनी Reno सीरीज का अगला फ्लैगशिप फोन Reno Ace 10 अक्टूबर यानी कि आज लॉन्च करेगी। हालांकि इससे पहले ही इस फोन की कीमत लीक हो गई है। लीक के अनुसार इस फोन को तीन स्टोरेज वेरिएंट में लॉन्च किया जाएगा। आइए जानते हैं, इस फोन से जुड़ी अन्य जानकारी...

लीक कीमत
चाइनीज सोशल मीडिया साइट Weibo पर इस फोन की कीमतें सामने आई हैं। जिसके अनुसार Oppo Reno Ace तीन स्टोरेज वेरिएंट में पेश किया जाएगा। इसमें 8GB रैम+ 128GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 3,699 Yuan (लगभग Rs 36,865 रुपए) होगी। वहीं 8GB रैम+ 256GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 3,999 Yuan (करीब Rs 39,855 रुपए) और 12GB रैम+ 256GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 4,499 Yuan (करीब 44,838 रुपए) होगी। 

Gundam Edition
वहीं Oppo के वाइस प्रेसि​डेंट Brian Shen के अनुसार कंपनी Oppo Reno Ace का Gundam Edition भी पेश करेगी। 12GBरैम+ 256GB स्टोरेज वेरिएंट में उपलब्ध इस फोन में कंपनी 90Hz डिस्प्ले देगी। यही नहीं इस फोन में क्वाड कैमरा सेटअप के साथ 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा दिया गया है। इसके अलावा इस फोन में शार्क फिन या सेंट्रली अलाइंड पॉप-अप सेल्फी कैमरा दिया जा सकता है।

लीक स्पेसिफिकेशन  
आपको बता दें कि इससे पहले लीक हुई जानकारी में फोन में 65W SuperVOOC Flash Charge के बारे में बताया गया था। रिपोर्ट के अनुसार इस फीचर के बाद Reno Ace दुनिया की सबसे फास्ट चार्जिंग टेक्नोलॉजी वाला पहला स्मार्टफोन बन जाएगा।

लीक रिपोर्ट्स के के अनुसार Oppo Reno Ace 90Hz रिफ्रेश रेट डिस्प्ले के साथ आएगा। इसमें 6.6 इंच फुल एचडी प्लस वॉटरफॉल डिस्प्ले दी जाएगी, जो कर्व्ड ऐज के साथ आएगी। जिसके बेजल्स पतले होंगे और स्क्रीन को 100 फीसदी स्पेस दिया जाएगा।

फोटोग्राफी के लिए इस फोन के रियर में क्वॉड कैमरा सेटअप दिया जाएगा। इसमें प्राइमरी 48 मेगापिक्सल के अलावा 13मेगापिक्सल, 8मेगापिक्सल और 2 मेगापिक्सल का क्वाड कैमरा सेंसर शामिल है।

Oppo Reno Ace में स्नैपड्रैगन 855 प्लस चिपसेट दिया जा सकता है। वहीं इसमें 12GB रैम और 256GB इंटरनल स्टोरेज दी जाएगी। यह फोन 5G कनेक्टिविटी को सपोर्ट करेगा। पावर के लिए इस फोन में 4000 mAh बैटरी दी जाएगी, सुपर फास्ट चार्जिंग के जरिए यह बैटरी 13 मिनट में चार्ज होगी।

 
  
 

कमेंट करें
hYlp7
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।