comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गुजरात: भरूच में केमीकल फैक्ट्री में ब्लास्ट के साथ लगी आग, 5 की मौत और 57 घायल, दो गांव खाली कराए

गुजरात: भरूच में केमीकल फैक्ट्री में ब्लास्ट के साथ लगी आग, 5 की मौत और 57 घायल, दो गांव खाली कराए

हाईलाइट

  • भीषण आग पर पाया गया काबू, होगी जांच
  • घायलों को उपचार के लिए भर्ती कराया गया

डिजिटिल डेस्क, भरूच। गुजरात के भरूच में केमिकल फैक्ट्री के अंदर एक टैंक में ब्लास्ट होने से आग लग गई। हादसे में अब तक पांच लोगों की झुलसने से मौत हो गई, जबकि करीब 57 लोगों को बाहर निकालकर अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। घटना बुधवार दोपहर की है। फायर ब्रिगेड टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया है। 

The fire has still engulfed the unit, the collector said. (Photo ANI)

भरूच कलेक्टर एमडी मोदिया ने बताया कि बुधवार दोपहर एक एग्रो-केमिकल कंपनी के बॉयलर में विस्फोट होने से फैक्ट्री में आग लग गई। उन्होंने बताया कि आग पूरी फैक्ट्री में लगी थी। एहतियात के तौर पर केमिकल प्लांट के पास के दो गांवों को खाली कराया गया है। फैक्ट्री में काफी तरह केमिकल रखे गए थे। इस घटना की पूरी जांच होगी। यहां 10 दमकल की गाड़ियाें ने आग बुझाने का काम किया। लोगों ने बताया कि एंबुलेंस को भी फोन किया गया था, लेकिन वह वक्त पर नहीं पहुंची। इसके चलते झुलसे हुए वर्कर तड़पते रहे। धमाके के बाद आसपास के इलाकों को सील कर दिया गया है। 

दो गांव खाली करवाए गए
भरुच के कलेक्टर एमडी मोडिया ने बताया कि फैक्ट्री के पास लाखी और लुवारा गांव को खाली करवा लिया गया है। यह ऐहतियाती कदम है, क्योंकि धमाके के बाद आसपास के इलाकों में जहरीले रसायन फैलने का खतरा है।

आंध्र प्रदेश में गैस लीकेज से 12 की गई थी जान
बता दें कि बीते महीने आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीकेज का मामला सामने आया था। हादसे में करीब 12 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। यहां एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही के चलते स्टाइरीन गैस रिसाव हुआ था। यह खुलासा मॉनिटरिंग कमेटी ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के समक्ष दाखिल अपनी रिपोर्ट में किया था। मॉनिटरिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही और ट्रेनिंग के अभाव में गैस रिसाव हुआ, जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई। हादसे में 22 जानवर भी मारे गए थे।

कमेंट करें
AzU3W
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।