comScore

मदद: कोरोना की वैक्सीन के लिए पीएम मोदी ने भारत की ओर से गावी को दिए 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर

June 04th, 2020 23:50 IST
मदद: कोरोना की वैक्सीन के लिए पीएम मोदी ने भारत की ओर से गावी को दिए 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर

हाईलाइट

  • ब्रिटेन द्वारा आयोजित गुरुवार को कोरोना वैक्सीन शिखर सम्मेलन में की मदद की घोषणा
  • प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गावी को हमारा समर्थन केवल वित्तीय नहीं है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए भारत अंतर्राष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन गावी को 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद देगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी घोषणा गुरुवार को UK के PM बोरिस जॉनसन द्वारा आयोजित वर्चुअल ग्लोबल वैक्सीन समिट में की। इस समिट में 50 से अधिक देशों के बिजनेस लीडर्स, UN एजेंसियां, सिविल सोसायटी, सरकार के मंत्रियों ने भाग लिया।

वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा आयोजित शिखर सम्मेलन में ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा दुनियाभर के राष्ट्रों से आग्रह किया गया था कि वे लाखों लोगों को बचाने और भविष्य में संक्रमक रोगों से दुनिया की रक्षा के लिए टीकाकरण के लिए वित्त पोषण करने का संकल्प लें।

गावी को हमारा सर्मथन सिर्फ वित्तीय नहीं: पीएम मोदी
शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गावी को हमारा समर्थन केवल वित्तीय नहीं है। भारत की भारी मांग टीकों की वैश्विक कीमत को कम करती है। आज के चुनौतीपूर्ण संदर्भ में मैं दोहराना चाहता हूं कि भारत दुनिया के साथ एकजुट खड़ा है। कम लागत पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं और टीके का उत्पादन करने की हमारी सिद्ध क्षमता, तेजी से फैलते टीकाकरण में हमारा अपना घरेलू अनुभव हैं। हमारा उद्देश्य मानवता की सेवा है।

हम दुनिया के 60 प्रतिशत बच्चों के टीकाकरण में योगदान के लिए भाग्यशाली: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया संक्रमक रोगों के खिलाफ टीकाकरण के महत्वपूर्ण मिशन में भारत के समर्थन पर भरोसा कर सकती है। भारतीय प्रधानमंत्री ने सरकार के मिशन इंद्रधनुष की ओर भी इशारा किया, जिसका उद्देश्य देश के भीतर बच्चों और गर्भवती महिलाओं का पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि हम दुनिया के लगभग 60 प्रतिशत बच्चों के टीकाकरण में योगदान करने के लिए भाग्यशाली हैं।

समिट में 35 देशों के प्रमुख और सरकारी प्रतिभागी शामिल थे
मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित लगभग 35 देशों के प्रमुखों और सरकारी प्रतिभागियों में शामिल थे, जो 2025 तक दुनिया के सबसे गरीब देशों में 300 मिलियन से अधिक बच्चों का टीकाकरण करने के लिए 7.4 मिलियन अमेरिकी डॉलर जुटाने के उद्देश्य से सम्मेलन में शामिल हुए थे।

कमेंट करें
GxC0n