comScore

कैश डिलीवरी वैन से मिली 36 लाख की नकदी जब्त, आयकर विभाग करेगा जांच

कैश डिलीवरी वैन से मिली 36 लाख की नकदी जब्त, आयकर विभाग करेगा जांच

डिजिटल डेस्क, रीवा। गुरूवार  की दोपहर को उडन दस्ते की टीम और पुलिस टीम द्वारा संयुक्त रुप से की जा रही चैकिंग में एक कैश डिलेवरी वैन से 36 लाख रुपये मिलने से सनसनी फैल गई। हैरानी की बात यह है कि वैन में चालक के अलावा और कोई नहीं थी। नगदी को जब्त कर इसकी सूचना आयकर विभाग को दी गई है। आयकर विभाग अब पूरे मामले की जांच  करेगा।

चालक नहीं दिखा सका कागजात
जानकारी के अनुसार लोक सभा चुनाव के मद्देनजर जगह-जगह चेकिंग तेज कर दी गई है। इस चेकिंग के दौरान एक कैश डिलेवरी वैन में बिना किसी सिक्योरिटी के 36 लाख रुपये ले जाए जाने पर उसे जब्त कर जांच में लिया गया है। एसएसटी-3 ने रीवा-गोविन्दगढ़ मार्ग पर सिलपरा नहर के समींप जांच लगाई थी। गोविन्दगढ़ की ओर जा रही कैश डिलेवरी वैन को भी जांच के लिए रोका गया। इस वैन में चालक के अलावा कोई और नहीं था। वैन में एक पेटी में बड़ी रकम मिलने पर चालक से इसके कागजात मांगे गए। लेकिन वह उपलब्ध नहीं करा पाया।

आयकर विभाग को सौंपा मामला
टीम ने इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी और इस वैन सहित कैश को  सिविल लाइंस थाना ले जाया गया। बताया गया है कि इस वैन में 36 लाख रूपये होने के बाद भी कोई सिक्योरिटी गार्ड नहीं था। ऐसे में यह राशि संदिग्ध लगी और इसे जांच में लिया गया। बड़ी राशि होने की वजह से यह मामला जांच के लिए आयकर विभाग को दे दिया गया है। बताते हैं कि यह कैश डिलीवरी वैन सीएसएस कम्पनी से जुड़ी है। आयकर विभाग की टीम अब यह जांच कर पता लगाएगी कि वास्तव में यह राशि कहां और क्यों जा रही थी।

इनका कहना है
चेकिंग के दौरान एसएसटी को 36 लाख रूपये मिले हैं। कैश डिलीवरी वैन में कोई सिक्योरिटी गार्ड नहीं था। वैन में सिर्फ चालक था और वह कोई दस्तावेज भी नहीं दे पाया। इस प्रकरण को जांच के लिए आयकर विभाग को दे दिया गया है।
शशिकांत चौरसिया, टीआई सिविल लाइंस

कमेंट करें
JhHig