comScore

गांजा तस्कर को पकड़ने पुलिस उपनिरीक्षक ने पुल से लगाई छलांग

गांजा तस्कर को पकड़ने पुलिस उपनिरीक्षक ने पुल से लगाई छलांग

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अंतरराज्यीय गांजा तस्कर के पीछे-पीछे पुलिस अधिकारी ने भी जान की परवाह किए बिना कापसी उड़ान पुल से छलांग लगा कर उसे धर-दबोचा। इस बीच एक आरोपी भागने में सफल रहा। घटना में गांजा तस्कर मामूली रूप से घायल हुआ है, लेकिन पुलिस उपनिरीक्षक को अंदरूनी चोटें लगी हैं। कलमना थाने में प्रकरण दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। रविवार को अवकाशकालीन अदालत में पेश कर उसे पीसीआर में लिया गया है।


जेल से छूटने के बाद करने लगा तस्करी
अंतरराज्यीय गांजा तस्कर आरोपी बालकृष्ण नानकचंद जैन (40) और उसका साथी अवधेश अज्जू विश्वकर्मा (30) दोनों मध्य प्रदेश के जबलपुर निवासी हैं। बालकृष्ण कुख्यात गांजा तस्कर है। लंबे समय से वह इसमें सक्रिय है। करीब 3 महीने पहले ही वह जेल से छूटा और फिर से तस्करी करने लगा। कामठी यातायात विभाग के विभाग उपनिरीक्षक संदीप आगरकर शनिवार की शाम को अपने दो सहयोगियों के साथ जबलपुर-हैदराबाद महामार्ग पर गश्त लगा रहे थे। इस दौरान संदिग्ध वाहनों की जांच-पड़ताल की जा रही थी। पुलिस को देखकर बालकृष्ण ने अपनी कार क्र.एमपी 20 सीएफ 1088 विपरीत दिशा से निकाली। कार को विपरीत दिशा से आता देखकर उपनिरीक्षक को संदेह हुआ। उन्होंने कार का पीछा किया। महालगांव कापसी में उड़ानपुल पर कार को रोका गया। तलाशी के दौरान कार की डिक्की में 40 किलो गांजा मिला।

मादक पदार्थ दस्ता भी कर रहा था पीछा
जब बालकृष्ण पुलिस को डिक्की खोलकर दिखा रहा था, तभी मौका पाकर उसका साथी अवधेश कार से उतरकर भागने लगा। उसे भागता देखकर बालकृष्ण ने भी उपनिरीक्षक के हाथ को झटका मारकर करीब 10 फीट ऊंचे कापसी उड़ानपुल से छलांग लगा दी। यह देख आगरकर ने भी जान की बाजी लगाकर उड़ानपुल से छलांग लगाई और बालकृष्ण को दबोच लिया, मगर भागने के चक्कर में बालकृष्ण के दोनों पैर में चोट लग गई। वह मामूली रूप से घायल हुआ है। उपनिरीक्षक आगरकर को भी अंदरूनी चोटें आई हैं। अपराध शाखा के मादक पदार्थ विरोधी दस्ते को इसकी जानकारी दी गई, हालांकि यह दस्ता भी आरोपी का पीछा कर रहा था। उन्हें भी कार में गांजा होने की गुप्त सूचना मिली थी। बालकृष्ण को गिरफ्तार किया गया। उसके कब्जे से गांजा समेत कार कुल 10 लाख 8 हजार 440 रुपए का माल जब्त किया गया है। आरोपी को अदालत में पेश कर 31 तारीख तक पीसीआर में लिया गया है।

तस्करी के लिए खरीदी कार
बरामद हुआ गांजा ओडिशा से लाया गया है। आरोपी ने बताया कि वह पहले भी आरोपी कई बार इस तरह गांजा ला चुका है, लेकिन दूसरे मार्ग से जबलपुर निकल जाता था। इस बीच वह नागपुर होते हुए जा रहा था कि पुलिस की गिरफ्त में आ गया। करीब 6-7 महीने पहले ही बालकृष्ण ने गांजा तस्करी के लिए कार खरीदी है, जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया है। यह कार भी गांजा तस्करी के रुपए से लिए जाने की जानकारी मादक पदार्थ विरोधी दस्ते के निरीक्षक राजू बहादुरे ने दी है। कार्रवाई में निरीक्षक रोशन यादव, राजेश, उपनिरीक्षक संदीप आगरकर, ठाकुर, विनोद मेश्राम, सतीश मेश्राम, सचिन शेलोकर, राहुल गुमगांवकर, यातायात विभाग के गोपीचंद निनावे और नीरज पाठक ने हिस्सा लिया।

कमेंट करें
m5NHp