comScore

निगाही खदान में रोज हो रहीं दुर्घटनाएं , वाहन पलटने से 5 घायल

March 05th, 2019 16:09 IST
निगाही खदान में रोज हो रहीं दुर्घटनाएं , वाहन पलटने से 5 घायल

डिजिटल डेस्क,सिंगरौली (निगाही)। एनसीएल की निगाही खदान में दुर्घटनाओं से पीछा नहीं छूट रहा है। एक के बाद एक दुर्घटनाओं का सिलसिला अनवरत जारी है, जिससे अधिकारी कर्मचारी सकते मे हैं। बीती नाइट शिफ्ट में ओबी लोड कर एक 120 टन भार क्षमता वाले डम्पर के डम्पिंग जोन मार्ग में अचानक पीछे का पहिया निकल जाने की खबर रही। जिससे बड़ी दुर्घटना होते होते बची, अभी इस दुर्घटना से लोग पूरी तरह वाकिफ भी नहीं हो पाये थे कि सोमवार की सुबह लगभग 6.30 बजे ड्रैगलाइन सेक्शन में कर्मियों को पहुंचाने जा रहा शिफ्ट वाहन पलट गया। जिसमें सवार 5 लोगों को चोटे आई हैं, जिन्हें उपचार के लिये नेहरू अस्पताल ले जाया गया। एक की हालत गंभीर होने के कारण उसे बनारस के हॉस्पिटल में रेफर कर दिया गया है। हालांकि डम्पर के खराब होने या पहिया निकल जाने की घटना को लेकर मामला काफी पेंचीदा रहा, जिसमें अधिकारी जबाव देने से बचते नजर आए।
डिवाइडर से टकरा कर पलटा शिफ्ट वाहन
सोमवार की सुबह तकरीबन 6.30 एक हायरिंग वाहन ड्रैगलाइन सेक्शन के कर्मचारियों को लेकर निगाही खदान जा रहा था। पहली शिफ्ट के  इस वाहन में 6 लोग सवार थे। वाहन जैसे ही वेस्ट टाइम आफिस और सेंट्रल चौराहे के पास पहुंचा, वह एक डिवाइर से टकरा गया। रफ्तार तेज होने के कारण वाहन पूरी तरह उलट गया। इस दुर्घटना में निगाही परियोजना का इलेक्ट्रिशियन अनुज सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। चालक अरविन्द कुशवाहा को भी गंभीर चोटें आईं। इसके अलावा  वैन में बैठे रमाकांत दुबे, मोतीलाल गुनिया, अनिल कुमार मिश्रा एवं दीपक कुमार पांडेय को चोटें आईं। इन सभी को आनन फानन नेहरू अस्पताल ले जाया गया, जहां से अनुज कुमार का कॉलर बोन क्रैक हो जाने की सूचना रही और उसे बनारस रेफर कर दिया गया है। अन्य सभी घायलों को उपचार हेतु अस्पताल में भर्ती किया गया है।
इनका कहना है
निगाही खदान जाते समय एक शिफ्ट वाहन पलट गया है। यह निजी वाहन था जिसे किराये पर लिया गया था, इस वाहन में पांच लोगों को चोटें आई हैं। एक कर्मचारी को कॉलर बोन फैक्चर होने की आशंका को देखते हुए बनारस रेफर कर दिया गया है। अन्य का उपचार नेहरू अस्पताल में किया जा रहा है। डम्पर के टायर निकलने जैसी घटना की जानकारी लेकर ही बताया जा सकता है।
-एसके सिंह, पीआरओ, एनसीएल

कमेंट करें
lAROW