comScore

NMC के 26 अस्पतालो को एक साथ रखा बंद, ट्रेनिंग लेने गया पूरा स्टॉफ

November 17th, 2018 15:22 IST
NMC के 26 अस्पतालो को एक साथ रखा बंद, ट्रेनिंग लेने गया पूरा स्टॉफ

डिजिटल डेस्क, नागपुर। NMC के स्वास्थ्य विभाग में मनमाने कामकाज का एक और उदाहरण सामने आया  है। मरीजों की अनदेखी कर 26 अस्पतालों का पूरा स्टॉफ एक साथ प्रशिक्षण लेने चला गया।   प्रशिक्षण के लिए राष्ट्रीय नागरी आरोग्य अभियान अंतर्गत शहर के नागरी प्राथमिक आरोग्य केन्द्रों  अर्थात दवाखानों के स्टॉफ को वनामति में प्रशिक्षण दिया जाना था। हैरानी की बात है कि एक साथ सारे स्टाॅफ को प्रशिक्षण दिया गया, जिसके चलते प्राथमिक आरोग्य केन्द्रों की छुट्टी कर दी गई, जबकि प्रतिदिन करीब डेढ़ हजार से अधिक मरीज यहां उपचार के लिए आते हैं। इस संबंध में प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है कि प्रशिक्षण के लिए मुंबई से आदेश दिए गए थे, जिसका पालन किया गया। यहां सवाल उठता है कि इस तरह एक साथ अस्पतालों को बंद करने से पहले मरीजों के उपचार के बारे में क्यों नहीं विचार किया गया। 

सभी केंद्र एक साथ बंद
गोकुलपेठ में वीआईपी रोड वनामति में नागरी प्राथमिक आरोग्य केन्द्र के स्टॉफ का प्रशिक्षण  आयोजित किया गया था। कार्यक्रम का उद्घाटन संभागीय आयुक्त संजीव कुमार के हाथों किया गया। इस दौरान नागरी प्राथमिकी आरोग्य केन्द्र व मनपा के अधिकारी मौजूद थे। इस प्रशिक्षण के शहर भर के नागरी प्राथमिक आरोग्य केन्द्रों को बंद रखा गया। दवाखाना बंद रहने की सूचना दो दिन पहले अंदर बोर्ड पर लगाई गई थी, इससे जो मरीज  उपचार के लिए पहुंचे, उन्हें समझ ही नहीं आया कि आखिर दवाखाना क्यों बंद है।

बोर्ड पर चिपका दिया था नोटिस
बताया गया कि मरीजों की जानकारी के लिए अस्पताल के अंदर दो दिन पहले नोटिस चस्पा कर दिया गया था कि दवाखाना शुक्रवार को बंद रहेगा। इससे सवाल यह खड़ा हाे रहा है कि क्या बाह्य रोगी विभाग में उपचार के लिए मरीज प्रतिदिन जाते हैं, क्योंकि मामले में अधिकारियों ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि अस्पताल के अंदर बोर्ड पर नोटिस लगा दिया गया था। कार्यक्रम में शामिल होना अनिवार्य था, इसलिए वहां जाना भी जरूरी था।

मुंबई से मिले थे निर्देश
कार्यक्रम के आयोजन के लिए मुंबई से निर्देश मिले थे। इससे उसका पालन किया गया था। यह निर्देश राष्ट्रीय नागरी आरोग्य अभियान अंतर्गत हमें दिए गए थे। पूरे दिन का कार्यक्रम होने के कारण दवाखानों को बंद रखा गया।  -डॉ. नरेन्द्र बहिरवार, प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी, मनपा

कमेंट करें
HN0di