comScore

संविदा शिक्षक को बना दिया छात्रावास का अधीक्षक, किया सात लाख का गोलमाल

March 11th, 2019 16:01 IST
संविदा शिक्षक को बना दिया छात्रावास का अधीक्षक, किया सात लाख का गोलमाल

डिजिटल डेस्क शहडोल। गोहपारू विकासखंड के देवगढ़ में पदस्थ संविदा शाला शिक्षक ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका आरोप है कि उन्हें बालक छात्रावास चुहिरी का अधीक्षक बनवाकर करीब सात लाख रुपए की हेराफेरी कराई गई। मामला उजागर होने के बाद अब प्रताडित किया जा रहा है। संविदा शाला शिक्षक वर्ग-3 प्रीतम लाल डहरवार ने आयुक्त आदिवासी विकास विभाग भोपाल को इस संबंध में पत्र लिखा था। मामले के संबंध में आयुक्त जानजातीय कार्य विभाग की ओर से 13 फरवरी को कमिश्नर शहडोल संभाग को पत्र जारी कर बिन्दुवार मामले की जांच कराने और अभिमत सहित एक सप्ताह के भीतर भेजने के निर्देश हुए हैं।

पत्र में यह भी लगाए आरोप

शिक्षक ने आयुक्त को भेजे पत्र में यह भी आरोप लगाया है कि 2 फरवरी 2017 को गबन में दोषी पाए जाने पर उसकी सेवा समाप्त कर दी गई थी। जब उसने संकुल केंद्र गुर्रा के प्राचार्य के माध्यम से तत्कालीन कलेक्टर को एक लाख रुपए दिए तो उसकी बहाली हो गई। शिक्षक का यह भी आरोप है कि पैसों की मांग के चलते उसका आज दिनांक तक अध्यापक संवर्ग में संविलियन भी नहीं कराया गया है।

कमिश्नर ने कलेक्टर को भेजा डीओ लेटर

आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग का पत्र प्राप्त होने के बाद तत्कालीन संभागायुक्त जेके जैन ने 28 फरवरी को कलेक्टर शहडोल ललित दाहिमा को अद्र्धशासकीय पत्र (डीओ लेटर) जारी कर मामले की जांच कराने के लिए कहा है। पत्र के साथ ही समस्त संलग्न पत्रों को भी कलेक्टर को भेजा गया है।

इन अधिकारियों की शिकायत

संविदा शाला शिक्षक डहरवार ने सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग, संभागीय उपायुक्त जनजातीय कार्य विभाग, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत और मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत गोहपारू के विरुद्ध शिकायत करते हुए प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है।  

इनका कहना है
हमारे पास अभी इस संबंध में कोई पत्र नहीं आया है। अगर पत्र आता है तो मामले की गंभीरता से जांच कराई जाएगी।
एस. कृष्ण चैतन्य, सीईओ जिला पंचायत

कमेंट करें
70ekY