comScore

आयुष्मान भारत बीमार : पैसे नहीं मिलने के कारण सरकारी अस्पतालों ने सर्जरी पर लगाई रोक

March 10th, 2019 16:46 IST
आयुष्मान भारत बीमार : पैसे नहीं मिलने के कारण सरकारी अस्पतालों ने सर्जरी पर लगाई रोक

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आम लोगों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के दावे के साथ शुरू की गई महत्वाकांक्षी स्वास्थ्य योजना की नागपुर में हवा निकल चुकी है। योजना के तहत दो-तीन सरकारी अस्पतालों में दी जा रही सर्जरी की सेवा रोक दी गई है। मामले में भले ही अस्पताल प्रबंधन चुप्पी साधे हैं, लेकिन सूत्रों के अनुसार मामला प्रतिपूर्ति नहीं होने का है। 

तीन माह पूर्व शहर के चार सरकारी अस्पतालों

गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जीएसीएच), सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल (एसएसएच), इंदिरा गांधी गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (आईजीजीएचसीएच) व डागा मेमोरियल वुमन एंड चाइल्ड हॉस्पिटल में योजना के तहत सर्जरी की सुविधा शुरू की गई थी। इन अस्पतालों के कुल 11 सर्जरी हुईं, जिनमें से जीएसीएच में एक हिप रिप्लेसमेंट, आईजीजीएचसीएच में पांच हिप व नी रिपप्लेसमेंट, एसएसएच में तीन हार्ट सर्जरी की गई। डागा में एक भी सर्जरी नहीं हुई। कुल 11 सर्जरी के लिए लगभग 12 से 13 लाख रुपए की प्रतिपूर्ति बकाया थी। इस योजना के तहत प्रतिपूर्ति की जिम्मेदारी महात्मा ज्योतिबा फुले जन आरोग्य योजना (एमजेपीजेएवाई) पर है। सितंबर में केंद्र सरकार की ओर से जारी इस योजना का उद्देश्य है, गरीब तबके के लोगों के लिए सरकारी अस्पतालों में महंगे ऑपरेशन कराने की सुविधा मिले। ऑपरेशन करवाने के लिए प्रतीक्षा सूची में शामिल मरीजों के परिजन योजना पर सवाल उठा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, एसएसएच में 11 मरीज हार्ट सर्जरी व 40 नी व हिप सर्जरी के लिए प्रतीक्षा सूची में हैं। मेडिकल में 50 मरीज प्रतीक्षा सूची में हैं। जिले में कुल 377301 परिवारों को इस योजना के लाभार्थी सूची में शामिल किया गया है। योजना ऐसे परिवारों के लिए लागू की गई है, जिनकी वार्षिक आय एक लाख रुपए वार्षिक तक है। वर्ष 2011 के सामाजिक आर्थिक व जाति जनगणना के आधार पर परिवारों का चयन किया गया है।

कर दी गई है बकाया निधि जारी 

सीई एमजेपीजेएवाई  सुधाकर शिंदे के मुताबिक बकाया निधि गुरुवार को जारी कर दी गई है। इतनी कम राशि के लिए सर्जरी पर रोक लगाया जाना सही नहीं है। योजना अभी-अभी शुरू हुई है इसलिए कुछ प्रारंभिक परेशानियां हैं, जो जल्दी ही ठीक हो जाएंगी।

कमेंट करें
Hy1nt