comScore

मेट्रो चलाने की जल्दबाजी चुनावी नाटक : सावंत

February 26th, 2019 17:47 IST
मेट्रो चलाने की जल्दबाजी चुनावी नाटक : सावंत

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  शहर में मेट्रो ट्रेन चलाने की तैयारी को कांग्रेस ने भाजपा की चुनावी नौटंकी कहा है। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा है कि जल्दबाजी में रेल चलाने से हादसे हो सकते हैं। हादसा हुआ, तो भाजपा व सरकार ही  पूरी तरह सेे जिम्मेदार रहेगी। पाकिस्तान को दिए जानेवाला पानी रोकने संबंधी गडकरी के होर्डिंग्स को उन्होंने शहीदों का अपमान कहा है। उन्होंने कहा है कि जवानों की शहादत का बदला केवल पानी रोकना नहीं हो सकता है। सोमवार को सिविल लाइंस स्थित प्रेस क्लब में पत्रकार वार्ता में सावंत बोल रहे थे। 
 

शहीदों का अपमान है
विमानतल से सीताबर्डी तक मेट्रो रेल के उद्घाटन की तैयारी चल रही है। इस मार्ग पर मेट्रो का ट्रायल हो चुका है। श्री सावंत ने कहा कि टुकड़ों में रेल चलाने का औचित्य समझ में नहीं आ रहा है। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता को देखते हुए जल्दबाजी की जा रही है। मेट्राे रेल संबंधी आरएसओ की अनुमति लेने में भी जल्दबाजी की गई है। पुलवामा हमले के बाद भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी के बयान को भाजपा प्रचार का हिस्सा बना रही है। नागपुर में गडकरी के फोटो के साथ होर्डिग्स लगे हैं, जिसमें लिखा है कि खून का बदला पानी रोक कर लिया जा रहा है। यह होर्डिग्स एक तरह से शहीदों का अपमान है। पाकिस्तान को दिए जानेवाला पानी नहीं रोका जा रहा है। सिंधु समझाैता इंडेक्स के अनुसार पाकिस्तान अपने हिस्से का ही पानी ले रहा है। उसके बारे में कुछ नहीं कहा गया है। 

सरकार में गंभीरता नहीं
10% अतिरिक्त पानी को रोककर 3 डैम बनाने की योजना तो काफी समय से चल रही है। कई बार चर्चाएं हुई हैं। नया कुछ नहीं है। आतंकी हमला मामले में सरकार की संवेदना नहीं दिख रही है। इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक बुलाई  और उस बैठक में प्रधानमंत्री ही उपस्थित नहीं थे। सरकार की गंभीरता साफ दिखती है। प्रधानमंत्री दलित, सफाईकर्मी के पैर धोने लगे हैं, लेकिन गुजरात में जब वे मुख्यमंत्री थे, तब दलितों पर सबसे ज्यादा अत्याचार हुए थे। कोर्ट ने तत्कालीन सरकार को दो बार दलितों को लेकर नसीहत दी है। मोदी ने कर्मयोग किताब में लिखा है कि मैला ढोने के काम से दलित महिला को आध्यात्मिक सुख मिलता है। पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे, प्रदेश सचिव अतुल कोटेचा, विशाल मुत्तेमवार, अभिजीत वंजारी, संदेश सिंगलकर उपस्थित थे।

यह भी कहा
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटील की नाराजगी केवल अफवाह है। पाटील किसी दल में नहीं जा रहे हैं।वंचित बहुजन आघाड़ी के नेता प्रकाश आंबेडकर को कांग्रेस अपने साथ ही रखना चाहती है। आरएसएस व भाजपा को कांग्रेस के नेतृत्व में ही पराजित किया जा सकता है। अलग लड़ेंगे, तो भाजपा को लाभ मिलेगा। आंबेडकर कहते हैं कि कांग्रेस को संघ पर कार्रवाई करनी चाहिए। हम कहते हैं इस संबंध में उनके पास कोई रोडमैप हो तो बताएं। यह भी बताएं कि कैसे कार्रवाई करें।
असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एमआईएम तो भाजपा को लाभ पहुंचाती है। 

कमेंट करें
B2r7u