comScore
Dainik Bhaskar Hindi

MP चुनाव : भोपाल के स्ट्रांग रूम पहुंचे मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, बोले- सबकुछ ठीक है

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 04th, 2018 08:28 IST

2k
2
0
MP चुनाव : भोपाल के स्ट्रांग रूम पहुंचे मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, बोले- सबकुछ ठीक है

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनावों के तहत 28 नवंबर को हुई वोटिंग के बाद अब रिजल्ट का इंतेजार हो रहा है। यह रिजल्ट 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे। मगर इससे पहले ही भोपाल के स्ट्रांग रूम में LED बंद होने के साथ अन्य गड़बड़ी होने की शिकायतें मिलने लगी हैं। इन्हीं शिकायतों पर गौर करते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने रविवार को पुरानी जेल स्थित स्ट्रांग रूम का दौरा किया। व्यवस्थाओं का जायजा लेने के बाद पदाधिकारियों ने बताया है कि यहां सबकुछ ठीक है।

वीएल कांताराव ने स्ट्रांग रूम का दौरा करने के बाद कहा कि यहां तीन लेवल की सुरक्षा व्यवस्था तैनात की गई है। पहले लेवल पर केंद्रीय अर्द्ध सैनिक बल, दूसरे पर सशस्त्र बल के जवान और तीसरे पर पुलिस की तैनाती है। उन्होंने बताया कि विजिटर को लेकर जो प्रोटोकॉल है, उसका पालन किया जा रहा है।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि स्ट्रांग रूम में LED चालू हैं और वहां की सभी गतिविधियां भी दिख रही हैं। जिस दौरान मैंने वहां का दौरा किया, उस समय वहां राजनीतिक दल के लोग और कुछ प्रत्याशी भी मौजूद थे।

वीएल कांताराव ने बताया कि 28 नम्बर को मतदान होने के बाद सभी VVPAT ओर EVM मशीनों को जिला मुख्यालयों में स्ट्रांग रूम में रखा गया है। सभी स्ट्रांग रूम में सुरक्षा के कड़े इंतेज़ाम हैं। उन्होंने बताया है कि एमपी में कुल 51 स्ट्रांग रूम बनाए गए हैं। साथ ही स्ट्रांग रूम के बाहर प्रत्याशी ओर उनके वॉलिंटियर्स के रुकने की व्यवस्था भी की गई है।

एमपी की विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने भी अपने कार्यकर्ताओं को हर समय सभी स्ट्रांग रूम की निगरानी करने के लिए तैनात कर रखा है। कांग्रेस प्रवक्ता जेपी धनोपिया ने बताया कि हमने स्ट्रांग रूम में ताला लगाने, दीवार घड़ी लगाने सहित कुछ अन्य सुझाव दिए थे, जो मान लिए गए हैं। जैमर लगाने की मांग भी की गई है।

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और भोजपुर सीट से कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश पचौरी ने भी भोपाल सेंट्रल जेल स्थित स्ट्रांग रूम और फिर रायसेन में पॉलिटेक्निक स्थित स्ट्रांग रूम पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

एक नजर...

  • मतगणना के लिए 15 हज़ार कर्मचारियों को ट्रैंनिग दी जा रही है
  • 11 दिसम्बर को होगी मतगणना
  • सुबह 8 बजे से शुरू होगी मतगणना
  • पोस्टल बैलेट की गिनती पहले होगी शुरू
  • एक राउंड में 14 मतदान केंद्रों की होगी गिनती
  • एक मतगणना केंद्र पर 14 टेबलें लगाई गई हैं, जबकि टोटल 3450 टेबिल हैं
  • 6,500 पत्रकारों को पास जारी किए गए हैं
  • रिटर्निंग ऑफिसर के अलावा कोई भी मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं कर सकेगा

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें