comScore
Dainik Bhaskar Hindi

स्कूली बच्चे करेंगे वन संपदा व प्राणियों की रक्षा, नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स का गठन

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 03rd, 2018 21:31 IST

705
0
0
स्कूली बच्चे करेंगे वन संपदा व प्राणियों की रक्षा, नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स का गठन

डिजिटल डेस्क, छतरपुर। वन्य प्राणियों और वन संपदा के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए ईको टूरिज्म बोर्ड और वन विभाग स्कूलों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं का सहयोग लेने जा रहा है। इसके लिए कक्षा 8वीं से कक्षा 12वीं तक अध्ययनरत विद्यार्थियों का चयन कर नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स का गठन किया जाएगा। नेचर वॉलेंटियर फोर्स का उपयोग वन एवं वन्य प्राणियों और वन संपदा के संरक्षण लिए उनके गांवों और नगरों में रहने वाले लोगों को जागरूक करने के लिए किया जाएगा। इसी के तहज 15 दिसम्बर से 15 जनवरी तक अनुभूति कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है। जिसके तहत चयनित बच्चों को जंगलों का भ्रमण करवाया जाएगा, ताकि बच्चे वन्य  प्राणियों और वन संपदा को करीब से देख कर उसके महत्व के बारे में समझ सकें।

भ्रमण के लिए 7 सौ बच्चों का होगा चयन
अनूभूति कार्यक्रम के तहत छतरपुर जिले के विभिन्न शासकीय स्कूलों में अध्ययनरत करीब 7 सौ 20 बच्चों का चयन किया जाएगा। चयनित बच्चों को जिले के महत्वपूर्ण जंगलों और वन संपदा क्षेत्रों का दौरा करवाया जाएगा। इस दौरान बच्चों को मरनव जीवन में वनों के महत्व के बारे में बताया जाएगा। बच्चों को पर्यावरण के महत्व के बारे में समझाया जाएगा, ताकि वे जानकारी लेने के बाद लोगों को पर्यावरण के बारे में बता सकें।

वन मंडल स्तर पर गठित होगा फोर्स
नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स का गठन प्रत्येक वन मंडल स्तर के लिए किया जाएगा। नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स में शामिल होने वाले बच्चों की पहले परीक्षा ली जाएगी। परीक्षा में पास होने वाले छात्र-छात्राओं को ही फोर्स में शामिल किया जाएगा। फोर्स के लिए चयनित होने के बाद बच्चे बगैर रोक-टोक के किसी ने नेचर पार्क में बगैर किसी रोक टोक के आ जा सकेंगे।

गांवों और शहरों में करेंगे जागरूक
नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स में चयनित बच्चे न केवल अपने स्कूल के साथी बच्चों को वन्य प्राणियों के संरक्षण के बारे में जागरूक करेंगे, बल्कि वे गांव और शहर के लोगों को भी वन्य प्राणियों, वन संपदा और पर्यावरण के लिए जागरूक करेंगे। शासन की मंशा है कि आने वाली पीढ़ी को वन संपदाऔर वन्य प्राणियों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी दी जा सके, ताकि लोग वन्य प्राणियों के बारे में समझ सकें और उनके संरक्षण में अपना योगदान दे सकें।

इनका कहना है
वनूभूति कार्यक्रम के तहत जिले के सरकारी स्कूलों के बच्चों को जंगल का भ्रमण कराया जाएगा। इस दौरान बच्चों को वन्य प्राणियों, वन संपदा और पर्यावरण के संरक्षा की जानकारी दी जाएगी। इन्हीं बच्चों में से नेचर वॉलिंटियर्स फोर्स का गठन किया जाएगा, जो अपने आस पास के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करेंगे।
-डॉ. अनुपम सहाय, डीएफओ

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें