comScore

UP : बलिया की वोटर लिस्ट में सनी लियोनी की फोटो, जानिए क्या है मामला

August 25th, 2018 20:45 IST
UP : बलिया की वोटर लिस्ट में सनी लियोनी की फोटो, जानिए क्या है मामला

हाईलाइट

  • लिया जिले में वोटर लिस्ट बनाने में बड़े पैमाने पर लापरवाही बरती गई है।
  • यहां लिस्ट में एक मतदाता की जगह सनी लियोनी की फोटो लगा दी गई।
  • इतना ही नहीं कुछ मतदाताओं के नाम के आगे हाथी, हिरन और कबूतर की तस्वीरें भी लगा दी गईं।

डिजिटल डेस्क, बलिया। बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोनी इन दिनों फिल्मों के अलावा भी उत्तर प्रदेश के बलिया जिले की मतदाता सूची में अपनी उपस्थिति दर्ज कराती नजर आ रही हैं। दरअसल बलिया जिले में वोटर लिस्ट बनाने में बड़े पैमाने पर लापरवाही बरती गई है। यहां लिस्ट में एक मतदाता की जगह सनी लियोनी की फोटो लगा दी गई। इतना ही नहीं कुछ मतदाताओं के नाम के आगे हाथी, हिरन और कबूतर की तस्वीरें भी लगा दी गईं।

जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा आगामी लोकसभा चुनाव के लिए मतदाता सूची बनाई जा रही है। इसी दौरान यह गड़बड़ी सामने आई है, जिसमें एक संविदाकर्मी ऑपरेटर मुख्य दोषी पाया गया। फिलहाल कार्रवाई करते हुए इस ऑपरेटर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए उसकी सेवा समाप्ति की सिफारिश की है। एसपी श्रीपर्णा गांगुली ने बताया कि बलिया के तहसीलदार/सहायक निर्वाचन अधिकारी राम नारायण वर्मा की शिकायत पर ऑपरेटर के खिलाफ बलिया कोतवाली में मामला दर्ज किया गया है।

अपर जिलाधिकारी मनोज कुमार सिंघल ने बताया कि डाटा ऑपरेटर विष्णु वर्मा का ट्रांसफर कर दिया गया था। जिससे नाराज होकर उसने बलिया नगर विधानसभा क्षेत्र की मतदाता सूची में सात नामों में गड़बड़ी की। दोषी ऑपरेटर ने मतदाता के फोटो के स्थान पर सनी लियोनी, हाथी, मोर और कबूतर के फोटो लगा दिए। बता दें कि मतदाता सूची की इस गड़बड़ी की जानकारी चुनाव आयोग को दे दी गयी है और गलती को सुधार लिया गया है।

मतदाता सूची में हुई ये गड़बड़ियां

  • ऑपरेटर ने दुर्गावती सिंह के नाम के सामने सनी लियोनी का फोटो लगा दी थी।
  • अखिलेश यादव सरकार में मंत्री रहे नारद राय के नंबर पर उनकी फोटो के स्थान पर हाथी की तस्वीर लगा दी।
  • इसके अलावा कुंवर अंकुर सिंह के नाम के आगे हिरन की फोटो लगाई।
  • कुंवर गौरव के नाम के आगे कबूतर का फोटो अपलोड कर दी गई।


इस पूरे मामले में हैरानी की बात तो यह भी है कि इस गड़बड़ी पर तहसीलदार व एसडीएम की नजर क्यों नहीं पड़ी क्योंकि हाथी, कबूतर, अश्लील महिला, हिरन आदि तो किसी व्यक्ति की तस्वीर नहीं हो सकती है। साथ ही तहसील के जिस डाटा ऑपरेटर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है, उसका ट्रांसफर सदर तहसील से बेल्थरारोड तहसील के लिए 28 मार्च को ही कर दिया गया था, जहां वह कार्यरत है। तो सवाल उठता है कि इस डाटा आपरेटर के खिलाफ मुकदमा क्यों दर्ज कराया गया?

कमेंट करें
mID9w