comScore

जिस महिला के घर में चाय पीती रही पुलिस, उसी के घर में था मासूम का शव

जिस महिला के घर में चाय पीती रही पुलिस, उसी के घर में था मासूम का शव

डिजिटल डेस्क, भोपाल। कोलार इलाके में घर से गायब हुए तीन साल के मासूम वरुण की बेहरमी से हत्या कर दी गई। इस घटना को अंजाम पड़ौस में रहने वाली एक महिला ने दिया। अपहरण और हत्या के इस मामले में हैरान करने वाली बात ये सामने आई कि पुलिस जिस महिला के घर में बैठकर तफ्तीश कर रही थी। घटना को अंजाम वहीं दिया गया था, लेकिन आरोपी महिला ने पुलिस को इस बात की जरा भी भनक नहीं लगने दी। महिला ने ही वरुण की हत्या की है इस बात की जानकारी उसी के 16 वर्षीय नाबालिग बेटे को थी। उसने अपनी मां को बच्चे की हत्या करते हुए देख लिया था। फिलहाल महिला पुलिस की गिरफ्त में है और उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। 

ऐसे हुई बच्चे की हत्या 
रविवार शाम को (14 जुलाई) को बच्चा घर के बाहर खेल रहा था। तभी महिला ने उसे चॉकलेट देने के बहाने अपने घर पर बुलाया। बच्चे ने घर में खाना मांगा। जिसमें महिला ने जहर (चींटी मारने की दवा) मिलाकर बच्चे को बच्चे के बेहोश होने के बाद महिला ने उस एक पानी के कंटेनर में रख दिया और पुलिस-परिजनों के साथ मिलकर बच्चे की तलाश करने का नाटक करने लगी। पुलिस की एक टीम आरोपी महिला के घर पर मृत बच्चे के परिजनों के साथ बैठकर तफ्तीश शुरु की। महिला और उसका बेटा सभी पुलिस अफसरों को चाय-पानी पूछते रहे। ग्लास में भरकर पानी देने भी आए। इसके बाद मां-बेटे मिलकर वरुण की तलाश का नाटक करने लगे। हालांकि नाबलिग बच्चे को पता था कि उसकी मां ने ही वरुण की हत्या की थी। क्योंकि उसने हत्या के बाद शव को टंकी में छुपाते हुए देख लिया था। पुलिस के जाने का बाद महिला ने रात 11 बजे वरुण को पानी के कंटेनर से निकालकर गेहूं की टंकी रख दिया और उसके ऊपर दोबारा गेहूं भर दिए ताकि बदबू न आए। दो दिन बाद जब पुलिस का पहरा रात 2.15 बजे हटा तो महिला ने मौके का फायदा उठाया और बच्चे को दुपट्टे में लपेटकर घर से बाहर लाई। शव को पड़ोसकी गली में फेंक दिया। इसके बाद वह अपने घर से निकली और बाजू वाले मकान में पहुंची। शव को उठाकर मकान के पिछले हिस्से में लेकर गई। वहां कमरे में और भी कुछ कपड़े पड़े थे। कपड़े शव से लपेटने के बाद आग लगा दी। धुआं ज्यादा नहीं फैले इसलिए पानी डाल दिया था। 

शव तक ऐसे पहुंची पुलिस
जांच करते हुए पुलिस को शक हो गया था कि बच्चे के घर के आस-पास के किसी शख्स ने इस घटना का अंजाम दिया है। इसके बाद एएसपी  क्राइम निश्चल झारिया ने रात करीब दो बजे अफसरों से सलाह मशविरा किया। रात 2.15 बजे गांव से पूरा पुलिस फोर्स हटा दिया गया। कुछ लोगों को सादी वर्दी में वहां छोड़ दिया। पुलिस को यकीन था कि पुलिस की अनुपस्थिति में आरोपी बच्चे को घर से बाहर जरुर निकालेगा। हुआ भी वैसा ही। महिला देरा रात घर से निकली और पास के सूने मकान में बच्चे के शव को ले जाकर जला दिया। 

आरोपी तक ऐसे पहुंची पुलिस
पुलिस ने जहां से शव बरामद किया। वहां आस-पास गेहूं बिखरा हुआ था और बच्चे के शरीर पर भी गेहूं के दाने चिपके हुए थे। गेहूं के दानों के आधार पर ही पुलिस आरोपी महिला के घर तक पहुंची। वहां गेहूं सूखते मिले तो शक यकीन में बदल गया। महिला ने उससे पहले पूछताछ में पुलिस को बताया चूहा मारने की है फिर कहा टायलेट से आ रही है, लेकिन पुलिस ने जब गेहूं की टंकी खोली तो उसमें शव सड़ने की दुर्गंध आ रही थी। एफएसएल टीम ने घर का परीक्षण किया, जिसमें बच्चे का शव उसके घर में ही छिपाकर रखे जाने की पुष्टि हो गई। 

तो इसलिए की थी बच्चे की हत्या
मामले की जांच कर रही पुलिस ने बताया कि बच्चे की हत्या के पीछे आपसी रंजिश ही प्रमुख कारण है। पुलिस पूछताछ में महिला ने बताया कि 16 जून को उसके घर में चोरी की घटना हुई थी। जिसमें उसके घर से डेढ़ किलो सोना-चांदी और तीस हजार के करीब नगदी चोरी हो गए थे। इस घटना के बाद वरुण के पिता विपिन और उनका परिवार रोजाना पार्टी कर रहे थे। आरोपी महिला का शक तो कि उसके घर में वरुण के पिता विपिन ने ही चोरी की है। इसी का बदला लेने के लिए उसने बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। 

सरकार को घेरेगा विपक्ष
मध्य प्रदेश में लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था और मासूमों के अपहरण और उनकी बेरहमी से हत्या को लेकर आज विपक्ष सरकार को घेरने की तैयारी में है। राजधानी के कोलार इलाके में मासूम की अगवा कर बेरहमी से हत्या के मामले को भाजपा आज विधानसभा में जोरशोर उठाएगी। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने मासूम की बेरहमी से हत्या के लिए सीधे मुख्यमंत्री कमलनाथ को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि एक ओर सरकार तबादलों में व्यस्त है तो दूसरी ओर सरकार की नाक के नीचे मासूमों की हत्या की जा रही है, जिससे आज प्रदेश के लोगों में खौफ बैठ गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था आज पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है और विपक्ष पूरी ताकत से इस मुद्दे को सदन में उठाएगा।

पूर्व सीएम शिवराज देंगे धरना
दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मासूम की हत्या मामले को लेकर सरकार पर तगड़ा हमला बोला है। शिवराज ने कहा कि आज प्रदेश अपहरण के मामले में नंबर एक बन गया है जबकि सरकार तबादलों में ही व्यस्त है। मासूमों के साथ बढ़ रहे अपराधों के विरोध में आज शिवराज भोपाल के रोशनपुरा चौराहे पर धरना देंगे। शिवराज ने कहा कि सरकार और प्रशासन की नाकामी के चलते मासूम को अपनी जान गंवानी पड़ी।

सीएम कमलनाथ ने जताया शोक
सीएम कमलनाथ ने मासूम की हत्या पर शोक जताया है और आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के निर्देश दिए हैं। सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा, 'भोपाल के बैरागढ़ चिचली इलाके से गायब मासूम बालक वरुण के प्रयासों के बावजूद सकुशल नहीं बच पाने की खबर बेहद दुखद, मन को द्रवित करने वाली है। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं। पीड़ित परिवार के साथ पूरी सरकार खड़ी है। आरोपियों को शीघ्र पकड़ने के निर्देश दिए गए हैं। किसी भी दोषी को बख़्शा नहीं जायेगा।'
 

कमेंट करें
QaKFW