comScore

बच्च्यिों का अपहरण कर ले जाते दो मानव तस्कर अरेस्ट

बच्च्यिों का अपहरण कर ले जाते दो मानव तस्कर अरेस्ट

डिजिटल डेस्क,कटनी। मुड़वारा स्टेशन पर तीन नाबालिग बच्चियों को तस्करी से बचाते हुए परिजनों के हवाले किया गया। मुड़वारा स्टेशन में शनिवार देर रात करीब 12 बजे चाइल्ड हेल्प लाइन के सदस्य यहां पर दबिश दिए। प्लेटफॉर्म पर एक महिला और एक पुरुष के साथ तीन नाबालिग थी। महिला और पुरुष से पूछताछ करने पर वे सदस्यों को गुमराह करते रहे। शंका होने पर चाइल्ड हेल्पलाइन ने आरपीएफ पुलिस की सहायता ली, जिसके बाद तस्करों की करतूत सामने आई। नाबालिगों के माता-पिता से संपर्क करने के बाद बच्चियों को आश्रय स्थल में सुरक्षित रूप से रखा गया है।  
घूमाने के बहाने तस्करी
तीन नाबालिग बच्चियां जिसमें एक की उम्र करीब 12 वर्ष, दूसरे की 14 और तीसरे की उम्र 17 वर्ष के आसपास रही। नाबालिग बच्चियों ने पुलिस और चाइल्ड हेल्प लाइन के सदस्यों को बताया कि ये महिला-पुरुष अपने साथ उन्हें घूमाने के बहाने अपने साथ चलने को कहे। विरोध करने पर दोनों आरोपियों ने जोर-जबरदस्ती की। भय के बाद तीनों नाबालिग आरोपियों के साथ आ गए।  
अभिभावकों ने बताया लापता
अपहृत नाबालिग बच्चियां सिंगरौली जिले के बरगंवा थाना क्षेत्र के एक गांव की रहीं। बालिकाओं के द्वारा बताए गए पते पर जब बरगंवा थाना क्षेत्र की पुलिस ने संपर्क किया, तब पता चला कि उनकी बच्चियां दो दिन से लापता हैं। दो दिन से वे रिश्तेदारों के यहां खोज रहे हैं। इसके बावजूद नाबालिगों का कहीं पर पता नहीं चला है। पुलिस ने जब बच्चियों की जानकारी दी, तब जाकर माता-पिता को राहत मिली।  
उत्तरप्रदेश से आए थे आरोपी
पुरुष और महिला आरोपी उत्तरप्रदेश के ललितपुर जिले से पहुंचे हुए थे। आरोपी पुरुष का नाम राजू राय और महिला का नाम सीमा बताया जा रहा है। आरपीएफ उस कड़ी का पता लगा रही है। जिसके माध्यम से वे बरगंवा तक पहुंचे। आरोपी महिला और पुरुष एक दूसरे को पति-पत्नी बता रहे थे। लेकिन पूछताछ में यह बात सामने आई कि वे मानव तस्करी के लिए ही आपस में रिश्तेदार बने हुए थे। आरपीएफ उपनिरीक्षक राहुल रावत और महिला आरक्षक गीता गायकवाड़ की भूमिका नाबालिगों को तस्करों से छुड़ाने में सफल रही।

कमेंट करें
827aG