दैनिक भास्कर हिंदी: 432 टन संतरा लेकर नागपुर से निकली 100वीं किसान रेल

December 30th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। 100वीं किसान रेल मंगलवार को नागपुर पहुंची। यहां कुल 432 टन संतरा लेकर रेल गंतव्य की ओर बढ़ी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 दिसंबर को वीडियो लिंक के माध्यम में इस गाड़ी को सांगोला (महाराष्ट्र) से हरी झंडी दिखाई थी। गाड़ी को सांगोला से शालिमार तक चलाया जा रहा है। नागपुर स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 8 से दोपहर 1.30 यह गाड़ी शालिमार की ओर बढ़ी है। गाड़ी में वरुड, नरखेड़ व पांढुर्णा से संतरे भेजे गए हैं। 

किसान की उपज को अब तक ट्रकों के माध्यम से एक राज्य से दूसरे राज्य तक भेजा जाता था। ट्रकों के माध्यम से उपज को भेजने में किसानों को बहुत ज्यादा किराया लगता था, जिससे नुकसान ही सहना पड़ता था। इन बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार की ओर से किसान रेल की शुरुआत की गई। पहली किसान रेल अगस्त 2020 में एक साप्ताहिक ट्रेन के रूप में शुरू की थी। नागपुर व आसपास के क्षेत्रों की बात करें तो संतरे के परिवहन के लिए किसान रेल 14 सितंबर से शुरू की गई।

सांगोला-शालिमार किसान रेल
सांगोला-शालिमार किसान रेल  21 नवंबर को शुरू हुई थी।  मल्टी कमोडिटी ट्रेन सेवा फूलगोभी, शिमला मिर्च, पत्तागोभी, सहजन, मिर्च, प्याज आदि सब्जियों के साथ-साथ अंगूर, संतरा, अनार, केला, कस्टर्ड ऐपल जैसे फल  का भी परिवहन कर रही है। 28 दिसंबर को 100वीं किसान रेल सांगोला-शालिमार के लिए नागपुर से 432 टन संतरे लेकर निकली। इससे नागपुर मंडल को 14 करोड़ 61 लाख रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ।

सब्जियां भी भेजी गईं
सांगोला से चली किसान रेल मनमाड़, भुसावल, बडनेरा, नागपुर, रायपुर, बिलासपुर, टाटानगर होते हुए शालिमार जाएगी। जिसमें नागपुर से 19 पार्सल वैगन संतरे के जोड़े गए। कुल गाड़ी में 22 वैगन हैं, जिसमें नागपुर के संतरे के अलावा सोलापुर, सांगली  जिले के सांगोला,  पंढरपुर, मोडलिंब, केवटी-महांकाल, सालगारे में उगाए जाने वाली शिमला मिर्च, अनार, अंगूर, अहमदनगर से नींबू, करमाला से टमाटर और कच्चे-पौधे शामिल भेजे गए।