दैनिक भास्कर हिंदी: किसानों को अब तक नहीं मिले धान खरीेदी के 165  करोड़  

June 17th, 2020

डिजिटल डेस्क, गोंदिया । कोरोना वायरस के कारण देश की अर्थ व्यवस्था को तगड़ा झटका लगा है, जिसका असर हर क्षेत्र पर दिखाई दे रहा है।  खरीफ मौसम शुरू हो गया है, लेकिन  अब तक किसानों से खरीदे गए ग्रीष्मकालीन धान के 165 करोड़ रुपए का भुगतान  नहीं किया गया, जिससे गोंदिया जिले के किसान आफत में आ गए हैं।  खरीफ मौसम के बंपर  उत्पादन के  बाद जिले के किसानों ने ग्रीष्मकालीन धान उत्पादन में भी रिकार्ड ब्रेक किया है। जिला मार्केटिंग फेडरेशन द्वारा क्रियान्वित जिले के 70 धान खरीदी केंद्रों पर अब तक 9 लाख क्विंटल धान की खरीदी हुई है।   जिसकी कीमत 165  करोड़ रुपए होती है। लेकिन  ग्रीष्मकालीन धान खरीदी का एक रुपया भी अब तक किसानों के बैंक खाते में जमा नहीं हुआ है। देश में कोरोना के सर्वाधिक मरीज महाराष्ट्र में होने के कारण राज्य की अर्थ व्यवस्था लडख़ड़ा गई है। इसके चलते अब तक किसानों के खाते में पैसे जमा नहीं हुए। फिलहाल खरीफ मौसम की तैयारी में जिले के किसान जुटे हुए हैं, जिसके लिए उन्हें बड़े पैमाने पर पैसों की आवश्यकता है। लेकिन भुगतान नहीं होने से कृषि सामग्री की खरीदी एवं खरीफ की तैयारी कैसी करें ? यह गंभीर प्रश्न उन्हें सताने लगा है।

100 करोड़ रु. का बोनस भी अटका
गत वर्ष के खरीफ मौसम में खरीदी किए गए धान पर राज्य सरकार द्वारा 700 रुपए प्रति क्विंटल बोनस घोषित किया गया था। लगभग 200 करोड़ रुपए में से 100 करोड़ रुपए बोनस की राशि अब भी किसानों को प्राप्त नहीं हुई है। जबकि इस वर्ष का खरीफ मौसम शुरू हो गया है। 

अब तक भुगतान नहीं
ग्रीष्मकालीन धान खरीदी के भुगतान के लिए फंड उपलब्ध नहीं होने से किसी भी किसान के खाते में पैसे जमा नहीं किए गए। निधि उपलब्ध होते ही भुगतान किया जाएगा। 
- जी.टी.खर्चे, जिला पणन अधिकारी, गोंदियादो ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया।   

खबरें और भी हैं...