दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर रेलवे स्टेशन पर 2 मतिमंद युवकों ने किया आत्महत्या का प्रयास

December 14th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर रेलवे स्टेशन पर दो मतिमंद युवकों ने आत्महत्या करने की कोशिश की। काफी देर मशक्कत करने के बाद दोनों को समझाकर घर भेजा गया। इस घटना ने रेलवे की सुरक्षा की पोल खोल दी है। दरअसल, कोरोना के बाद से रेलवे स्टेशन पर किसी भी व्यक्ति का जाना प्रतिबंधित है। यात्रा करने वाले ही टिकट लेकर प्लेटफार्म पर जा सकते हैं, जबकि एक युवक प्लेटफार्म पर पहुंचने के बाद ट्रेन की छत पर चढ़ गया। दोनों घटनाएं 02811 एलटीटी-हटिया एक्सप्रेस में हुई।

ट्रेन के नीचे पटरियों पर जाकर बैठ गया युवक
पहली घटना 02811 एलटीटी-हटिया एक्सप्रेस जब दोपहर 1.30 नागपुर पहुंची तब हुई। विनायक धर्मेंद्र जोशी (22) मतिमंद है। विनायक के पिता की मुंजे चौक में चाय की दुकान है। विनायक करीब 1.30 बजे नागपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंचा और प्लेटफार्म-6 पर खड़ी एलटीटी-हटिया के बी-7 कोच के नीचे पहियों के बीच जाकर बैठ गया। गाड़ी छूटने ही वाली थी। यह देख अन्य यात्री घबरा गए और उन्होंने उप-स्टेशन व्यवस्थापक सतीश ढाकणे को जानकारी दी। उन्होंने तुरंत जीआरपी को सूचित किया। सूचना मिलते ही सहायक पुलिस निरीक्षक संदीप गोंडाणे, हवलदार विजय मरापे, सतीश खवसे ने गार्ड को सूचित किया और ट्रेन रोकने को कहा। काफी देर विनायक को समझाने के उसे प्लेटफार्म पर लाया गया। कुछ देर बाद उसकी मां आई और उसे उसके साथ भेज दिया गया। 

कोच पर चढ़ा और तार छूने की कोशिश करने लगा
दूसरी घटना भी एलटीटी-हटिया एक्सप्रेस में ही हुई। अंबेश्वर कुमार राजेंद्र सिंह (30) नामक युवक भी मंतिमंद है। अंबेश्वर बासकी, पोस्ट तुरपा, झारखंड निवासी है। अंबेश्वर ट्रेन के स्लीपर कोच के ऊपर चढ़कर ओएचई तार को हाथ लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश करने लगा। आनन-फानन में रेलवे सुरक्षा दल ने ओएचई तार की विद्युत आपूर्ति बंद कराई। पश्चात उप-निरीक्षक बी.एस. बघेल और टीम ने युवक को समझाया। काफी देर मशक्कत करने के बाद युवक को समझा-बुझाकर उसे कोच से नीचे उतारा गया। कुछ देर बाद उसे उसके पिता के साथ घर भेज दिया गया।