दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में लगने वाले थे 25 आक्सीजन प्लांट, अब लगेंगे सिर्फ 13

May 21st, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मार्च व अप्रैल महीने में कोरोना का उग्र रूप देखने को मिला। स्वास्थ्य व्यवस्था बिगड़ने से कई तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ा। बेड, ऑक्सीजन, दवाएं समेत समय पर उपचार न मिलने से लोगों को जान गंवानी पड़ी। तमाम हालातों को देखते हुए जिले को ऑक्सीजन उत्पादन में सक्षम करने का निर्णय लिया गया था। जिले में 25 ऑक्सीजन प्लांट लगाने की घोषणा की गई थी। अब 13 ऑक्सीजन प्लांट ही लगाए जानेवाले हैं। ऐसे में भविष्य में तीसरी लहर आने पर समस्या पैदा हो सकती है।

संसाधनों की उपलब्धता पर निर्भर
पिछले दो महीने में कोरोना ने कहर बरपाया था। इसके मद्देनजर जिला प्रशासन ने स्वास्थ्य सेवा में सुधार करने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए थे। जिले में ऑक्सीजन की कमी के कारण दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन मंगाना पड़ा था। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए जिले में 25 ऑक्सीजन प्लांट लगाने की घोषणा की गई थी, लेकिन अब इसमें कटौती कर फिलहाल 13 प्लांट लगाए जाएंगे। फिलहाल 12 प्लांट की कटौती की गई है। बताया गया है कि संसाधनों की उपलब्धता के आधार पर इनका काम किया जाएगा।

यहां लगाए जाने थे प्लांट
जिले में 25 ऑक्सीजन प्लांट इस प्र्रकार लगाए जाने थे। मेडिकल में 2, मेयो में 2, एम्स में 2 इनके अलावा कलमेश्वर, नरखेड, काटोल, पारशिवनी, रामटेक, मौदा, कामठी, उमरेड, भिवापुर, कुही, सावनेर, पाटणसावंगी, देवलापार, प्रादेशिक मनोरुग्णालय, कोंढाली में एक-एक प्लांट लगाना था। इसके साथ ही उमरेड, काटोल, रामटेक व सावनेर में एक क्रायोजनिक ऑक्सीजन प्लांट लगाने की योजना थी। इससे 80 से 90 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्रति दिन मिलने वाली थी। क्रायोजनिक ऑक्सीजन प्लांट से 1500 सिलेंडर ऑक्सीजन प्राप्त होने का दावा भी किया गया था।

अब यहां लगाए जाएंगे प्लांट
अब मेडिकल में 2, मेयो में 1 व एम्स में 1 ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। वहीं उमरेड में क्रायोजनिक ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। नरखेड, काटोल, उमरेड, भिवापुर, रामटेक व देवलापार में ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे। उमरेड के प्लांट से 1500 जम्बो सिलेंडर उपलब्ध होंगे।