दबिश: सुपारी व्यापारी को जेल से छुड़ाने 30 लाख की वसूली मामले में 3 हवाला कारोबारी गिरफ्तार

February 16th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  शहर क्राइम ब्रांच पुलिस ने सुपारी व्यापारी को जेल से छुड़ाने के लिए 30 लाख रुपए की वसूली के मामले में तीन हवाला कारोबारियों को गिरफ्तार किया है।  आरोपियों के नाम नरेश परमार, रतन राणा और बृजेश पटेल है। बृजेश पटेल को खानदेश के जलगांव से गिरफ्तार किया गया है। इस प्रकरण में आरोपी मनोज वंजानी, सौरभ केसवानी और अशोक वंजानी के खिलाफ तहसील थाने में वसूली का मामला दर्ज है। इन दोनों आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्त में लिया। मामला क्राइम ब्रांच पुलिस को सौंप दिया गया।

वंजानी बंधुओं की निशानदेही पर पकड़े गए
वंजानी बंधुओं की निशानदेही पर क्राइम ब्रांच पुलिस की टीम ने उक्त तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार के अनुसार आरोपी सौरभ केसवानी को हवाला के माध्यम से 30 लाख रुपए दिलाए गए थे। इस प्रकरण में पुलिस की टीम ने जलगांव और चालीसगांव में दबिश देकर  नरेश, रतन और बृजेश की धरपकड़ की। अशोक और मनोज के कहने पर सौरभ को हवाला के जरिए 30 लाख रुपए दिलाए गए। उसके बाद शेष 30 लाख रुपए के लिए अनूप नगरिया को परेशान किया जाने लगा था। 

हवाला के जरिए जलगांव  में दिलाए 30 लाख
चंद्रलोक बिल्डिंग में वासन वाइन शॉप के पास मनोज, अशोक ने अनूप को बुलाकर डराते हुए कहा था कि, अनिल जेल से नहीं छूटेगा। हमारी न्यायपालिका व पुलिस विभाग में ऊपर तक पहचान है। अनिल को जेल से छुड़ाने व उस पर दर्ज मामले से बाहर निकालने के लिए     60 लाख रुपए खर्च लगेगा। आरोपी मनोज ने अपने फाेन से आरोपी  सौरभ केसवानी से अनूप की बातचीत कराई। सौरभ ने अनिल को छुड़ाने के लिए 30 लाख रुपए मनोज और अशोक के पास देने को कहा। यह रकम सौरभ को  यह रकम हवाला के माध्यम से जलगांव में दिलाई गई। यह बात जांच के दौरान जब क्राइम ब्रांच  पुलिस को पता चली, तब आरोपी नरेश, रतन और बृजेश को गिरफ्तार किया गया है। 

एक पुलिस कर्मचारी भी रडार पर 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुपारी कारोबारी अनिल महेशचंद नगरिया को जेल से बाहर निकालने के बदले में अनूप से 30 लाख रुपए वसूली प्रकरण में एक पुलिसकर्मी भी रडार पर आ गया है। इस पुलिसकर्मी पर भी गाज गिर सकती है। इस प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस आयुक्त ने मामले को क्राइम ब्रांच पुलिस काे सौंप दिया है। इस प्रकरण की क्राइण ब्रांच की टीम गंभीरता से जांच कर रही है।