दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर जिले में फंसे मजदूरों को भेजने के लिए 3 सौ बसें तैयार

May 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  एक महीने से ज्यादा समय में नागपुर जिले में फंसे छत्तीसगढ, मध्यप्रदेश व विभिन्न दिशाओं के मजदूरों को अपने घर भेजने के लिए राज्य मार्ग परिवहन महामंडल की 3 सौ बसें तैयार है। हालांकि अभी तक इस संदर्भ में प्रशासन के दिशा-निर्देश नहीं आये हैं। लेकिन मजदूरों को राज्य मार्ग परिवहन महामंडल के 8 डिपो से कुल 530 बसों में से 3 सौ बसें विभिन्न दिशा में मजदूरों को छोड़ने के लिए तैयार  है

गत 22 मार्च से नागपुर समेत अन्य शहरों में व दूसरे राज्य में भी लॉकडाउन की स्थिति बनी है। जिसके कारण यहां मजदूरी करने आये छत्तीसगड़, मध्यप्रदेश के करीब साढ़े आठ हजार मजदूर फंसे हैं। जिन्हें प्रशासन ने शेल्टर होम में रखा है। लगातार लॉकडाउन बढ़ने के बाद अब प्रशासन ही इन्हें अपने राज्य भेजने की पहल कर रहा है। हालांकि इसके लिए संबंधित शहर के जिलाधिकारी की अनुमति आदि ली जाएगी। शहर में अटके इन मजदूरों को यदि शिवनी, रीवा, रायगड़ आदि जगहों पर भेजना है, तो प्रशासन एस टी बसों की मदद लेगा।   इसके लिए नागपुर विभाग के 8 डिपो की 3 सौ बसों का इस्तेमाल किया जाएगा। जिसमें नागपुर, घाट रोड, वर्धमान नगर, इमामवाडा, सावनेर, उमरेड, काटोल व रामटेक डिपो शामिल है। एक बस में 22 मजदूरों को बैठाकर उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा।

जिलाधिकारी कार्यालय की ओर से मजदूरों को भेजने संदर्भ में राज्य मार्ग परिवहन महामंडल से बैठक आदि शुरू है। अभी तक कोई आदेश नहीं आये हैं। लेकिन हमारी ओर से 3 सौ बसों की तैयारी की गई है। -  निलेश बेलसरे, विभाग नियंत्रण, राज्य मार्ग परिवहन महामंडल नागपुर

खबरें और भी हैं...