दैनिक भास्कर हिंदी: सौर ऊर्जा से नागपुर में 32 प्र.श. लोग अनजान,सर्वे में हुआ खुलासा

December 28th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जहां पूरे देश में सौर ऊर्जा के इस्तेमाल पर जोर दिया जा रहा है वहीं नागपुर में सौर ऊर्जा प्रणाली से 32 प्रतिशत लोग अनभिज्ञ होने की जानकारी सामने आई है।  सरकार  सौर ऊर्जा को लेकर कई योजनाएं चला रही है लेकिन जमीनी स्तर पर जानकारी के अभाव व सरकारी लेटलतीफी के कारण उनका फायदा कम ही हो रहा है। अक्षय ऊर्जा के अंतर्गत अहम सौर ऊर्जा के क्षेत्र में आवासीय भवनों में सोलर रूफटॉप पैनलों को लगाए जाने की स्थिति पर हाल ही में वर्ल्ड रिसर्च सेंटर (डब्ल्यूआरआई )और शक्ति सस्टेनबल एनर्जी फाउंडेशन की ओर से पांच शहरों में सर्वे किया गया। उन पांच शहरों में नागपुर भी शामिल था। सर्वे के अनुसार, नागपुर में 32 फीसदी लोगों ने कहा कि साैर ऊर्जा के बारे में जानकारी का अभाव होने कारण उन्होंने अपने घर में सोलर रूफटॉप पैनल लगाने के बारे में नहीं सोचा। सर्वे में अपने घर में रूफटॉप सोलर पैनल लगाने वालों, सोलर पैनल लगवाने की सोच रखने वालों और वैसे लोग जो इस बारे में नहीं सोच रहे हैं, से बात की गई थी।  हालांकि नागपुर स्थित महाऊर्जा कार्यालय से संपर्क किए जाने पर शहर में इस संबंध में जागरूकता की कमी से इनकार किया गया।

रिहायशी भवनों में कम इस्तेमाल
केंद्र सरकार के वर्ष 2022 तक देश मेेे अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में 175 गीगावाट उत्पादन लक्ष्य तक पहुंचने में रिहायशी भवनों का सौर ऊर्जा में जुड़ने की धीमी गति बाधा बन सकती है। मौजूदा योजना के तहत का 40 गीगावाट का उत्पादन रूफटॉप सोलर पैनल के हिस्से में आवंटित किया गया है। फिलहाल देश में रूफटॉप सोलर पैनल की क्षमता 1.222 गीगावाट है, जिसमें रिहायशी भवनों का हिस्सा मात्र 0.37 प्रतिशत है।  

संख्या प्रश. में कारण
32    साैर ऊर्जा की जानकारी नहीं
16    जानकारी है, पर विस्तार से नहीं
28    लागत ज्यादा 
2    सकारात्मक समीक्षा नहीं मिली
4    भौतिक अवरोध
16    जरूरत नहीं है 
2    अन्य कारण 
(स्रोत- वर्ल्ड रिसर्च सेंटर)

एक वर्ष में लगे 1200 रूफटॉप सोलर पैनल
महाऊर्जा के नागपुर कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, पिछले वित्त वर्ष में नागपुर विभाग के कुल 1200 आवासीय भवनों में रूफटॉप सोलर पैलन लगाए गए हैं। इस वर्ष भी अब तक सितंबर से दिसबंर तक 100 मेगावाट का लक्ष्य प्राप्त किया जा चुका है। अब भी विभाग के पास सात सौ प्रस्ताव हैं। नागपुर विभाग में वर्धा, गाेदिंया, भंडारा और नागपुर शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...