दबिश: नागपुर एयरपोर्ट की पार्किंग से 337 ग्राम सोना जब्त

September 8th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  दुबई से नागपुर में हो रही सोने की स्मगलिंग (तस्करी) का पर्दाफाश हुआ है। पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम अकरम मलिक दीन माेहम्मद (32), इरशाद खान इशाक खाक  (21), रोशनियाबाद, दिड़वाना, नागोर, राजस्थान और राहुल हरीशचंद्र यादव  (24), ग्राम हमजापुर, पोस्ट गोधना, बुलपुर, आजमगढ़, उत्तर प्रदेश निवासी है। तीनों आरोपियों से 337 ग्राम सोना जब्त किया गया है। तीनों आरोपियों को गणेशपेठ पुलिस ने बुधवार को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। न्यायालय ने तीनों आरोपियों को 11 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया है। पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने इस बारे में बुधवार को पुलिस भवन में आयोजित पत्र परिषद में बताया कि, इस बारे में कस्टम विभाग को अलर्ट कर दिया गया है। 

पूछताछ में हो सकता है बड़े गिरोह का खुलासा : आयुक्त ने कहा कि, पकड़े गए आरोपियों को देखकर लग रहा है कि, दुबई से नागपुर में सोने की तस्करी हो रही है। दुबई में कोई गैंग सक्रिय होकर यह कार्य कर रही है। यह गिरोह मजदूरों का उपयोग सोना तस्करी में कर रही है। कस्टम ड्यूटी बचाने के लिए मजदूरों के जरिए सोने की तस्करी हो रही है। आरोपियों को मंगलवार को तड़के नागपुर एयरपोर्ट की पार्किंग से पकड़ा गया, पार्किंग में बैग की अदला- बदली होती थी । पुलिस को शक है कि, दुबई से मजदूरों को बैग देकर उसमें इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं और मजदूरों के औजारों में सोना भेजने का काम हो रहा है। तीनों आरोपियों से पूछताछ में सोना तस्करी करने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश हो सकता है।

पहले दिल्ली से हो रही थी तस्करी
पहले दिल्ली के एयरपोर्ट से सोना स्मगलिंग के मामले सामने आते रहे हैं। अब नागपुर का हवाईअड्डा भी इसके लिए उपयोग किया जाने लगा है। दुबई से तड़के नागपुर के डॉ. बाबासाहब आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हवाई जहाज आता है। दुबई में बैठे स्मगलर कस्टम डयूटी बनाने के लिए सोने की तस्करी कर रहे हैं।

हथौड़ी की मूंठ में छिपा रखा था
मंगलवार को तड़के राहुल अपने साथी इरशाद और अकरम के साथ नागपुर एयरपोर्ट की पार्किंग में घूम रहा था। इस दौरान शहर पुलिस ने संदेह के आधार पर उनसे पूछताछ की। उनके पास एक बैग मिली, जिसमें हथौड़ी व अन्य इलेक्ट्रिक सामान था। पुलिस को खबर मिली थी कि, उनके पास सोना है। पुलिस ने इलेक्ट्रॉनिक हथौड़ी को खोला, लेकिन सोना नहीं मिला, जब उस हथौड़ी की गहन जांच की गई, तब सोना मिला। हथौडी की मूंठ की जगह के अगल-बगल में बकायदा  जगह बनाकर सोना लाया गया था। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना है कि, राहुल यादव कैरियर की तरह सोने की तस्करी में काम करता था। आरोपी इरशाद और अकरम इसकी तस्करी करते हैं। इन तीनों आरोपियों से आगे पता चल सकेगा कि, ये किसके लिए काम करते हैं। पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार के मार्गदर्शन में गणेशपेठ के वरिष्ठ थानेदार भारत क्षीरसागर मामले की जांच कर रहे हैं। 

लूटपाट की टीप देने का संदेह : पुलिस आयुक्त ने बताया कि,  गणेशपेठ के आग्यारामदेवी चौक के पास गत 5 सितंबर को एक लूटपाट हुई थी। इसमें दुबई से आए एक मजदूर को लूटा गया था। उससे 4 आईफोन, 4 एपल की वॉच और जूसर मिक्सर छीन लिया गया था। यह मजदूर सीए रोड पर किसी लॉज  में बैग किसी को पहुंचाने जा रहा था। पुलिस को शक है कि, आरोपी इरशाद, अकरम और राहुल ने ही उसकी टीप दी थी। राहुल दो माह के वर्कर वीजा पर दुबई गया था। वह दुबई से एक बैग लेकर नागपुर आया था और बैग इरशाद और अकरम के हवाले करने के बाद रेन से गोरखपुर चला गया था। राहुल ने नागपुर एयरपोर्ट पर उतरने के बाद  ट्रेन से गोरखपुर जाने का टिकट भी दुबई से बुक किया गया था।