दैनिक भास्कर हिंदी: सफाई के दौरान ट्रेन में मिले 450 जिंदा कारतूस, कोच डिस्प्ले में हुई गड़बड़ी से मची भगदड़

November 22nd, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सफाई के लिए आई एक्सप्रेस गाड़ी में 450 जिंदा कारतूस मिले। जिसकी सूचना तुरंत आरपीएफ को दी गई। जांच पड़ताल में पता चला कि, गाड़ी लखनऊ से विजयवाड़ा के लिए बुक थी। जिसमें इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस व सीआरपीएफ के जवान सवार थें। ऐसे में प्राथमिक अंदाज पर यह कारतूस उन्हीं के होने का अनुमान लगाया जा रहा है। फिलहाल जीआरपी मामले की जांच कर रही है। हालांकि यह कारतूस किसी गलत हाथों में लगते तो अंजाम का अंदाजा भी लगाया जा सकता है। सफाई कर्मचारी को एक बोगी में बर्थ के नीचे मिलेटरी बॉक्स नजर आया। जिसके बारे में तुरंत आरपीएफ को जानकारी दी गई। आरपीएफ ने स्पॉट पर पहुच जांच पड़ताल करने पर इसमें इंसाफ राइफल की 450 कारतूस दिखे। उन्होंने तुरंत पंचनामा कर बॉक्स सील कर दिया। सूत्रों के अनुसार बंदोबस्त के लिए जानेवाली यह ट्रेन सेना के जवानों के लिए ही बुक थी। ऐसे में यह कारतूस उन्हीं के हो सकते हैं। फिलहाल जांच की जा रही है।

कोच डिस्ल्पे में हुई गड़बड़ी, यात्रियों की भागमभाग
रेलवे स्टेशन पर बुधवार शाम उस वक्त यात्रियों में भागमभाग हुई, जब एक्सप्रेस आने पर कोच डिस्प्ले में गड़बड़ी हो गई। एसी की जगह खड़े यात्रियों को दूसरी छोर भागना पड़ा। वहीं स्लीपर कोच के पास खड़े यात्रियों को एसी कोच की ओर भागना पड़ा। इसमें बीमार, बुर्जुग और दिव्यांग यात्रियों की जमकर फजीहत हुई। ट्रेन नंबर 12151 त्रिवेंद्रम-गोरखपुर एक्सप्रेस शाम 5.15 बजे प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंची। गाड़ी आने के कुछ समय पहले ही डिस्प्ले में कोच पोजीशन पता चल जाती है। यात्री अपना लगेज लेकर खड़े थें। लेकिन जब गाड़ी सामने आई तो कोच की स्थिति विपरित थी। स्लीपर की जगह एसी कोच, एसी की जगह स्लीपर कोच थें। कुछ ही मिनट ठहराव के कारण यात्रियों में भागमभाग मच गई थी। इधर से उधर भारी लगेज लेकर यात्री दौड़ते दिखाई दिए।

खबरें और भी हैं...