जंग के बीच : चंद्रपुर-गड़चिरोली के 8 विद्यार्थी यूक्रेन में, पैरेंट्स चिंतित

February 26th, 2022

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर/गड़चिरोली। रूस ने यूक्रेन पर हमला बोलकर जंग छेड़ दी है। जंग के कारण चंद्रपुर और गड़चिरोली जिले के 8 विद्यार्थी यूक्रेन में फंसे होने की जानकारी मिली है। चंद्रपुर के 6 विद्यार्थी यूक्रेन में अलग-अलग जगह फंसे हुए हैं,वे एमबीबीएस की पढ़ाई करने गए थे। वहीं गड़चिरोली की दोनों छात्राएं यूक्रेन की राजधानी कीव से 250 किमी दूरी पर स्थित विनित्सिया शहर में एमबीबीएस की शिक्षा ग्रहण कर रहीं हैं। युद्ध के कारण विद्यार्थियों के अभिभावक चिंता में आ गये हंै। 

यूक्रेन में चंद्रपुर जिले के जो विद्यार्थी, नागरिक फंसे हैं उनके रिश्तेदारों को प्रशासन के साथ संपर्क करने की अपील की थी। अब तक 6 विद्यार्थियों के रिश्तेदारों ने जिला प्रशासन के साथ संपर्क किया है।  साथ ही वे सभी विद्यार्थी सही सलामत होने की जानकारी सामने आ रही है। यूक्रेन में फंसे 6 विद्यार्थियों में चंद्रपुर जिले के हर्षल बलवंत ठावरे, ऐश्वर्या प्रफुल्ल खोब्रागडे, नेहा शेख, आदिती अनंत सायरे, धीरज बिस्वास आैर दीक्षाराज अकेला का समावेश है।
 इनके अलावा जो कोई भी यूक्रेन में फंसे हैं उनके रिश्तेदारों को तत्काल नजदीकी तहसील कार्यालय या फिर जिला नियंत्रण कक्ष, जिलाधिकारी कार्यालय क्र. 07172-251597 अथवा 7666641447 इस मोबाइल क्रमांक पर संपर्क करें, ऐसा जिला प्रशासन ने बताया है।

कौन कहां फंसा
एमबीबीएस के सेकंड ईयर का छात्र हर्षल ठावरे यूक्रेन के टार्नोपोइल राज्य में फंसा है। एमबीबीएस की पांचवें वर्ष की छात्रा एेश्वर्या खोब्रागडे टार्नोपोइल राज्य के एवोन बुकेवेस्की, एमबीबीएस छात्रा नेहा शेख ज़ापोरोज़िया के होहोल्या स्ट्रीट 83, छात्रा अदिती सायरे फ्लैट नं. 33, फेडको'व्याचा वुलित्सिया 7 इवानो-फ्रैंकविस्क ओब्लास्ट में फंसी है।  धीरज आसीम बिस्वास असपेंस्कया 47, ओडेसा जबकि छात्र दीक्षाराज अकेला अपार्टमेंट नं. - 93, अकादमिक ज़ाबोलोटनोहो 6, विन्नित्सिया में फंसे हैं। प्रशासन के सूत्रों से पता चला है कि, और एक रिश्तेदार ने उनका परिजन वहां फंसे होने की बात कही थी, किंतु वह व्यक्ति वहीं शादी करने के चलते स्थायी हो गया है, जिससे उसका वापस आना फिलहाल संभव नहीं है।

गड़चिरोली जिले की 2 छात्राएं यूक्रेन में फंसी होने की जानकारी है। गड़चिरोली निवासी दिव्यानी सुरेश बांबोलकर और स्मृति रमेश सोनटक्के यूक्रेन की राजधानी कीव से 250 किमी दूरी पर स्थित विनित्सिया शहर में एमबीबीएस की शिक्षा ग्रहण कर रहीं है। हालांकि वर्तमान में विनित्सिया शहर में कोई खतरा नहीं हैं, मात्र दोनों छात्राओं के अभिभावक चिंता में आ गए हंै। अभिभावकों ने इस संदर्भ में जिला प्रशासन से संपर्क कर अपनी बेटियों की जानकारी साझा की है। 

 बता दें कि, विनित्सिया शहर के विनित्सिया नेशनल यूनिवर्सिटी की एमबीबीएस शाखा में दिव्यानी तीसरे वर्ष में होकर स्मृति प्रथम वर्ष की शिक्षा ग्रहण कर रहीं हैं। स्मृति के पिता रमेश गड़चिरोली में प्राध्यापक होकर उन्होंने बताया कि, उनकी स्मृति से लगातार बातचीत हो रही है। विनित्सिया शहर में अब तक कोई खतरा नहीं है। स्मृति यूनिवर्सिटी के छात्रावास में निवासरत होकर यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने विद्यार्थियों की सुरक्षा को लेकर प्रबंध कर रखे हंै। साथ ही विद्यार्थियों के भोजन के लिए पर्याप्त सामग्री उपलब्ध करवाई गई है। वहीं दिव्यानी अपनी एक सहपाठी छात्रा के साथ विनित्सिया शहर में किराए के मकान में निवासरत है। पिछले कुछ दिनों से यूक्रेन देश पर युद्ध की आशंका को देखते हुए स्मृति सोनटक्के ने भारत लौटने के लिए विमान का टिकट लिया था। वह 4 मार्च को लौटने वाली थी। लेकिन अब युद्ध शुरू हो जाने के कारण विमान सेवाएं पूरी तरह बंद कर दी गयी हैं। उधर यूक्रेन देश की राजधानी कीव में लगातार बमबारी शुरू हाेने के कारण वहां फंसी छात्राओं में दहशतपूर्ण माहौल निर्माण होने लगा है। यूक्रेन में फंसी छात्राएं भारतीय दूतावास के संपर्क मंे होने की जानकारी स्मृति के पिता प्रा. रमेश सोनटक्के ने दी है। उन्होंने इस संदर्भ में जिला प्रशासन को भी सूचित कर रखा है। 

जिला प्रशासन ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर  
वर्तमान स्थिति में रूस व यूक्रेन देश में युद्ध शुरू हुआ है। इस परिस्थिति में यूक्रेन में गड़चिरोली जिले के कोई नागरिक फंसे होंगे तो तत्काल संबंधित नागरिकों की जानकारी पुलिस थाना अथवा सीधे पुलिस अधीक्षक कार्यालय को देने की अपील जिला प्रशासन ने की है। इसके लिए जिला प्रशासन ने हेल्पलाइन भी जारी की है। नागरिक 07132-223149, 223142 और 9403801322 पर संपर्क कर सकते हंेै। 
 


    


 

खबरें और भी हैं...