दैनिक भास्कर हिंदी: IPL सट्टे की लत, मां का मंगलसूत्र बेचने निकला था 9वीं का छात्र

June 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, वर्धा। IPL में सट्टा लगाकर हारने के बाद उसका कर्ज चुकाने एक 9वीं कक्षा के छात्र ने अपनी मां का मंगलसूत्र बेचने निकल गया। सराफा व्यापारी की सजगता और सूझबूझ से पुलिस की मदद से मंगलसूत्र के साथ बालक को उसके माता-पिता के सुपुर्द किया गया।

कारण जान कर दंग रह गए परिजन
जानकारी के अनुसार पिछले सप्ताह एक लड़का सराफ व्यवसायी के पास आया। उसके पास सोने का मंगलसूत्र था। पहली बार उसने सराफा व्यवसायी को पूछा कि यह मंगलसूत्र असली सोने का है या नहीं। जब व्यवसायी ने बताया कि मंगलसूत्र सोने का है तो लड़का वहां से चला गया। इसके कुछ समय बाद वह  वापस आया और उसने सराफा व्यवसायी को मंगलसूत्र बेचने की बात कही। इससे सराफा व्यवसायी को संदेह हुआ, उन्होंने  कुछ दोस्तों को बुलाकर उसकी जांच की। लड़के का नाम और गांव पूछा गया। लड़के ने पहली बार सही जवाब नहीं दिया।

फिर घर का पता बताया जिसके बाद घर में संपर्क किया गया। लड़के को सराफा व्यवसायी  ने अपने भरोसे में लिया। साथ ही समझाने का प्रयास किया। इस दौरान लड़के के माता-पिता वहां पहुंचे। इस बात को लेकर बच्चे की माता रोने लगी। इसके बाद लड़के ने  मंगलसूत्र क्यों बेचने  के लिए लाया इसका कारण बताने पर सब कुछ स्पष्ट  हुआ।  

घर में है 20 एकड़ खेती
बताया जाता है कि यह लड़का नवीं कक्षा का छात्र है। घर में सिंचाई की 20 एकड़ खेती है, लेकिन उसे IPL क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने की आदत लग गई। इस बीच छात्र ने सट्टा लगाना शुरू किया। इसमें वह कुछ पैसे हार गया। इसके बाद सट्टा व्यवसायी उसे पैसों के लिए परेशान करने लगे। यह उधारी चुकाने के लिए छात्र ने मां का मंगलसूत्र घर से चुराकर सराफा व्यवसायी को बेचने का प्रयास किया, लेकिन सराफा व्यवसायी ने समझदारी दिखाते हुए उसके माता-पिता को बुलाकर सौंप दिया। घटना से कारंजा तथा आष्टी तहसील में सट्टा बुकी सक्रिय होने की बात पता चलती है। युवाओं की सट्टे की इस कदर लत लगी है कि वे कुछ भी करने को तैयार हैं। इस ओर प्रशासन व पुलिस को ध्यान देने की आश्यकता है।