दैनिक भास्कर हिंदी: ब्लैकमेलिंग से परेशान छात्रा ने खा लिया जहर, दर्दनाक सड़क हादसे में गई दो जानें, खड़े ट्रक को लगी आग

May 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। पूर्व प्रेमी की ब्लैकमेलिंग से त्रस्त होकर छात्रा के आत्महत्या करने का खुलासा हुआ है। घटना के दिन छात्रा ने मामले की साइबर सेल में शिकायत भी की थी, लेकिन शिकायत का कोई समाधान नहीं होने पर छात्रा ने आत्मघाती कदम उठा लिया। प्रकरण में आरोपी के मां की भी लिप्तता है। मृतका श्रेया संजीव भेंडारकर (20), साकोली तहसील अंतर्गत जमुनापुर निवासी थी। नागपुर स्थित गांधी नगर में वह किराए से रह रही थी और पढ़ाई कर रही थी। पांच वर्ष पूर्व श्रेया के प्रेम संबंध साकोली तहसील के, वर्तमान में नागपुर निवासी विद्यार्थी केतन देवरावजी डेकाटे से थे, लेकिन केतन का स्वभाव ठीक नहीं होने से श्रेया ने अपने संबंध खत्म कर लिए थे। केतन फिर से श्रेया के करीब आने का प्रयास कर रहा था। उसकी बात नहीं मानने पर केतन ने श्रेया को धमकी दी थी कि, उसके साथ निकाले फोटो उसके माता-पिता और मित्रों को भेज देगा। केतन की धमकियों से त्रस्त होकर श्रेया ने यह बात केतन की मां को भी बताई थी, लेकिन उसने भी अपने पुत्र का ही साथ दिया।

अलग-अलग नंबरों से फोन कर दे रहा था धमकियां


केतन की ब्लैकमेलिंग से त्रस्त होकर घटना के रोज 3 मई को श्रेया ने नागपुर के साइबर सेल को केतन की शिकायत की थी। क्योंकि वह अलग अलग नंबरों से फोन कर उसे परेशन कर रहा था और धमकियां भी दे रहा था। मामला साइबर सेल से जुड़ होने के बाद भी साइबर सेल में श्रेया की शिकायत का समाधान नहीं हुआ। लिहाजा उसने अपने कमरे में जहरीली दवा का सेवन कर लिया और उसकी मौत हो गई। श्रेया की मौत के लिए केतन को जिम्मेदार ठहराया गया है। उसके खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। प्रकरण में पुत्र को सहयोग करने से केतन की मां भी आरोपी बनाई जा सकती हैं। केतन के पिता पशु चिकित्सक हैं, जबकि श्रेया के पिता पेशे से शिक्षक हैं। प्रकरण दर्ज कर लिया गया है।