दैनिक भास्कर हिंदी: पत्नी की हत्या कर खुद किया इंस्पेक्टर को फोन, पुलिस को दिखाया घर का रास्ता

November 10th, 2018

डिजिटल डेस्क, सतना। धनतेरस की रात गहने गायब होने की बात पर शुरू हुए झगड़े में पति ने बीती रात पत्नी को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया और फिर खुद ही टीआई को फोन कर हत्या की खबर दे दी। लिहाजा मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। यह सनसनीखेज वारदात सिविल लाइन  थाना अंतर्गत गढिय़ा टोला में सामने आई। इस संबंध में पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक रात करीब 12 बजे अतुल उर्फ मोनू पुत्र  मेघराज सिंह 28 वर्ष निवासी बांदा, उत्तरप्रदेश हाल राजेन्द्र नगर गली नंबर 7 ने पहले डायल 100 और फिर थाने में फोन कर बताया कि उसने अजाक थाने के पीछे बने पंकज उरमलिया के मकान में अपनी पत्नी पूजा 26 वर्ष की हत्या कर दी है।

पहले तो फोन उठाने वाले प्रधान आरक्षक ने उसकी बात को मजाक समझा, पर जब वह अड़ा रहा तो टीआई संतोष तिवारी से बात कराई, जिन्होंने एफआरवी को भेजा और खुद भी दल-बल के साथ रवाना हो गए। पुलिस टीम अजाक थाने के पास से आरोपी ही घर तक लेकर गया। मौके पर पहुंचकर पुलिस ने जब कमरे में घुसी तो फर्श, दीवार और बिस्तर पर खून के छीटे दिख गए। जबकि महिला की लाश को आरोपी ने रजाई से ढक रखा था, उसे तुरंत ही हिरासत में लेकर जांच पड़ताल शुरू कर दी गई।

10 वर्ष पूर्व किया था प्रेम विवाह
मूलत: बांदा जिले का निवासी अतुल बीते डेढ़ दशक से अपने परिवार के साथ सतना में रह रहा है। राजेन्द्र नगर गली नंबर 7 में निवासरत रहने के दौरान ममता शुक्ला के मकान में किराए से रहने वाली पूजा दाहिया पुत्री मोतीलाल 26 वर्ष निवासी अटरिया थाना बड़ी सेमरिया जिला रीवा से उसकी दोस्ती हो गई और दोनों के बीच प्रेम हो गया, लिहाजा 10 वर्ष पूर्व उन्होंने शादी कर ली। इस रिश्ते से नाखुश होने के चलते युवक के माता-पिता और छोटा भाई अजाक थाने के पीछे पंकज उरमलिया के मकान में किराए से रहने चले गए, जबकि युवक ने ममता के मकान की ऊपरी मंजिल में कमरा लेकर पत्नी के साथ रहने लगा। उसने पतेरी गोदाम में काम करने के साथ पन्ना नाका में चाय-पान की दुकान भी खोल ली थी। वहीं युवती घर में कपड़े सिलने का काम करती थी। अतुल और पूजा की शादी से एक बेटी मान्या हुई जो अब 4 साल की हो चुकी है। काफी सालों तक सबकुछ ठीकठाक चलता रहा, लेकिन बीते कुछ समय से युवक को शराब पीने की लत लग गई थी। जिसके चलते पति-पत्नी में अक्सर विवाद होने लगा था।

ऐसे बिगड़ी बात
धनतेरस पर्व के दौरान पूजा ने सोने-चांदी के जेवर और कीमती सामान का पूजन करने के बाद अलमारी में रख दिया, लेकिन जब सुबह उठी तो गहने नहीं मिले। तब उसने पति पर चोरी का संदेह जताते हुए घर से निकाल दिया और सिटी कोतवाली में शिकायत भी कर आई। उधर पत्नी की दुत्कार के बाद अतुल अपनी मां और भाई के पास चला गया, वह दिन भर पीने लगा। इस बीच गहनों को लेकर पत्नी ने कई बार फोन कर भला-बुरा भी कहा, जिससे युवक आक्रोशित हो गया और पूजा को सबक सिखाने की योजना बनाने लगा। गुरूवार शाम करीब 5 बजे पत्नी ने एक बार फिर फोन कर झगड़ा सुलझाने का प्रस्ताव रखा तो आरोपी ने उसे गढिय़ा टोला वाले घर में आने के लिए कहा, जिस पर महिला साढ़े 5 बजे वहां पहुंच गई लेकिन  आमने-सामने आते ही पुन: झगड़ा करने लगे।

यह देखकर छोटे भाई ने आपत्ति जाहिर की तो आरोपी ने उसे बाहर निकाल दिया और पत्नी के साथ मारपीट करने लगा। तब मां ने रोका तो उसे भी धक्का देकर 4 वर्षीय बेटी समेत बाहर निकालकर यह कहते हुए दरवाजा बंद कर लिया कि तुम लोग बांदा चले जाओ। इसके बाद आरोपी ने लात-घूसों से जमकर पीटने के बाद  गला दबाकर पूजा की हत्या कर दी और जब गुस्सा ठंडा नहीं हुआ तो सिलबट्टे से सिर कुचल दिया। शाम करीब 7 बजे पत्नी को मौत के घाट उतारने के बाद आरोपी ने उसका शव बिस्तर पर रखकर रजाई से ढक दिया और बाहर से कुंडी लगाकर पतेरी गोदाम चला गया, जहां से ताला लेकर वापस आया और दरवाजे पर लगा दिया।