दैनिक भास्कर हिंदी: एमपी: राज्य के डाकघरों में बनेंगे आधार, तैयारियां हुईं पूरी 

October 19th, 2017

डिजिटल डेस्क, भोपाल। डिजिटल इंडिया कि तरफ बढ़ रहे देश में आधार कार्ड हर जगह उपयोगी हो गया है। एमपी सरकार ने उपयोगिता को देखते हुए डाकघरों में आधार बनाने की तैयारी पूरी कर ली है और दिसंबर से आधार डाकघर में बनना भी शुरू हो जाएंगे।

गौरतलब है कि डाकघरों में पहले से पत्र, डाक टिकट बिक्री, बैंकिंग और पासपोर्ट जैसे काम होते हैं। अब सरकार ने डाकघर में आधार बनाने की शुरुआत भी कर दी है। हालांकि शुरुआत में यह सुविधा 1000 डाकघरों में मिलेगी। डाक विभाग के कर्मचारियों को इससे संबंधित ट्रेंनिंग भी दे दी गयी है। मिली जानकारी के अनुसार लगभग सभी जिलों के डाकघरों में बायोमेट्रिक मशीनें खरीदने की प्रक्रिया भी चल रही है। बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार ने देश के प्रत्येक नागरिक का आधार हो की दिशा में कदम उठाते हुए यह फैसला लिया है। डाक विभाग की दूर दराज तक फैली पहुंच का उपयोग करते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है। सरकार की यह योजना साल के अंत तक शुरू होने की उम्मीद की जा रही है।

एमपी परिमंडल के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल आलोक शर्मा को ही बायोमेट्रिक मशीनें और अन्य उपकरण जुटाने के लिए अधिकृत किया गया है। पहले डाक मुख्यालय की दिल्ली से ही आधार के लिए जरूरी मशीनें भेजने की योजना थी।  

मशीन खरीद शुरू 

डायरेक्टर रामचंद्र जायेभाये ने बताया कि प्रदेश के 1000 डाकघरों में सुविधा शुरू करने का प्लान है। इनमें से 500 डाकघरों में आधार कार्ड अपडेट करने और 500 डाकघरों में नए आधार बनाने की सुविधा शुरू की जाएगी। आधार के लिए पंजीयन कराने 'आईरिश स्कैन" मशीनों को खरीदा जा रहा है। 

यूपीए सरकार ने लांच किया था आधार

आधार कार्ड स्कीम को 2011 में यूपीए की मनमोहन सिंह सरकार में लांच किया था। जिसके बाद बीजेपी सरकार में भी पीएम मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा इसे सपोर्ट किया गया।