दैनिक भास्कर हिंदी: ट्रू कॉलर पर फेक आईडी बनाकर बैंको से ठगी का सनसनीखेज खुलासा

December 15th, 2018

डिजिटल डेस्क, सतना। ट्रू कॉलर पर फेक आईडी बनाकर सतना-जबलपुर और उत्तर प्रदेश के मेरठ में हुंडई के डीलरों के बैंक खातों से मोटी रकम उड़ाने के आरोपी एक  जालसाज को यहां की कोलगवां पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर सतना लाएगी। पुलिस ने बताया कि 24 वर्षीय आरोपी आदर्श कुमार यूपी के गौतमबुद्ध नगर का रहने वाला है। आरोपी जबलपुर स्थित सेंट्रल जेल में बंद है। जबलपुर पुलिस के हत्थे चढ़े आदर्श ने अपने अपराध कबूल कर लिए हैं। इसके  2 आरोपी साथी अभी फरार हैं।

फ्रॉड का  नायाब तरीका
एसबीआई की कमर्शियल ब्रांच के मैनेजर रवि कुमार हेड़ाऊ ने 28 अक्टूबर को यहां कोलगवां थाने में इस आशय की शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके पास आए एक फोन में कॉलर ने स्वयं को रायल कार्स  का डायरेक्टर बताते हुए अपने खाते से पीएनबी और एसबीआई  के अलग-अलग एकाउंट में क्रमश: 10 लाख और साढ़े 4 लाख रुपए की राशि ट्रांसफर करने का आग्रह किया। इसी बीच खास बात ये रही कि मैनेजर को जिस मोबाइल नंबर से कॉल आई थी वो नंबर ट्रू कॉलर पर रायल कार्स के डायरेक्टर का ही नाम बता रहा था। बावजूद इसके मैनेजर श्री हेड़ाऊ ने जब तस्दीक की कोशिश की तो कॉलर ने उनसे कहा कि ये भी उसका एक और नंबर है। इतना ही नहीं मैनेजर को झांसा देने के लिए जालसाज ने बातों ही बातों में हाल ही के पिछले बैंक ट्रांजेक्शन का हिसाब भी दे दिया। भरोसा होते ही मैनेजर श्री हेड़ाऊ ने बताए गए खाता नंबरों पर राशि स्थानांतरित कर दी।

और, ऐसे खुली पोल
जैसे ही पीएनबी के एकाउंट में 10 लाख और एसबीआई के बताए गए खाते के लिए साढ़े 4 लाख रुपए की राशि ट्रांसफर हुई। वैसे ही रॉयल कार्स के वास्तविक डायरेक्टर के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस पहुंच गया। उन्होंने फौरन एसबीआई की कमर्शियल ब्रांच के मैनेजर से मोबाइल पर संपर्क किया और वस्तुस्थित बताई। सच सामने आते ही मैनेजर ने पीएनबी को स्थानांतरित की गई 10 लाख की राशि तो रोक ली लेकिन एसबीआई के खाते में तब तक साढ़े 4 लाख रुपए की राशि जा चुुकी थी। पीएनबी को ट्रांसफर की गई राशि अदर बैंक होने के कारण बच गई।

जबलपुर पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी
मामला पुलिस के संज्ञान में आने पर जांच का जिम्मा डीएसपी नीरज नामदेव की निगरानी में कोलगवां थाने के एएसआई वकार खान को सौंपा गया। पुलिस की साइबर सेल की भी मदद ली गई। उधर,ऐसी ही एक शिकायत पर जबलपुर पुलिस भी सक्रिय थी। दरअसल हाल ही में जबलपुर में भी हुंडई के डीलर के  बैंक खातों के साथ भी ऐसी ही ठगी हुई थी। पुलिस की जांच में ये तथ्य सामने आया कि राशि जिन खातों में स्थानांतरित हुई थी वो खाते  उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर निवासी आदर्श कुमार (24) के हैं। पुलिस ने उसे गौतम बुद्ध नगर से गिरफ्तार कर जब जांच शुरु की तो आरोपी ने स्वीकार किया कि उसने अपने दो और साथियों की मदद से ऐसी ही ठगी मेरठ में हुंडई के डीलर उमा मोटर्स के साथ भी की है। तीन सदस्यीय जालसाजों के इस गिरोह के मास्टर माइंड आदर्श कुमार ने माना कि उसके विभिन्न बैंकों में कुल 8 खाते हैं। हुंडई के डीलर उनके निशाने पर थे। फिलहाल इस मास्टर माइंड के 2 आरोपी फरार हैं।