दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना के बाद जरूरी है लंग्स की जांच कराना : डॉ. स्वर्णकार

May 11th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  विश्वभर में कोरोना से 30 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में अब तक 1.4 करोड़ लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। इसमें अधिकतम लोग तेजी से ठीक भी हो रहे हैं, लेकिन कोविड से ठीक होने के बाद भी मरीजों को पोस्ट कोविड की समस्याएं परेशान कर रही हैं। इसमें सबसे ज्यादा लंग्स फाइब्रोसिस देखा गया है। यह बात इंडियन चेस्ट सोसायटी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. राजेश स्वर्णकार ने कही है।

2 हफ्ते में जांच जरूर कराएं : डॉ. स्वर्णकार ने कहा कि कई लोग आरटीपीसीआर रिपोर्ट के निगेटिव आते ही यह सोचते हैं कि वह इससे पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं, लेकिन कोविड का लंग्स पर लंबे समय तक असर रहता है। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी लंग्स में फाइब्रोसिस होने की आशंकाएं अधिक होती हैं। यह ज्यादातर उन लोगों को होता है, जिन्हें कोविड के दौरान ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। इसलिए आरटीपीसीआर निगेटिव आने के बाद 2 हफ्तों में लंग्स की एक बार जांच जरूरी होती है।

सांस फूलने लगती है : हमारे पास दो लंग्स हैं, इसलिए हमें इसका पता नहीं चलता। इससे लंग्स की क्षमता कम होती है। इससे कुछ भी काम करने के बाद सांस फूलने लगती है। इसके साथ ही पोस्ट कोविड इंट्रेस्टियल लंग्स डिसीज भी बढ़ी है। इसके लिए मरीजों को लगातार अपने लंग्स की जांच करनी चाहिए। इसके लिए उन्हें 6 मिनट वॉक कर के और अन्य प्रक्रिया से जांच करना चाहिए। इसके साथ ही मरीजों में योगा और प्रोन वेंटिलेशन प्रक्रिया से भी फर्क आया  है।