कोराना का खतरा हुआ कम: दिवाली के बाद नौनिहाल भी जाएंगे स्कूल, प्रशासन की तैयारी

November 1st, 2021

डिजिटल डेस्क,नागपुर। राज्य में कोविड की तीसरी लहर का खतरा कम हो गया है। 17 जिलों में मरीजों का आंकड़ा ‘खतरे की रेखा’ से नीचे चला गया है, इसलिए स्कूल खोलने की तैयारी चल रही है। शिक्षा विभाग के सूत्रों ने दिवाली अवकाश के बाद ग्रामीण में पहली से और शहरी क्षेत्र में 5वीं कक्षा से स्कूल खुलने की जानकारी दी है।

11 नवंबर से होगी शुरुआत
कोविड के चलते डेढ़ साल से स्कूल बंद हैं। पढ़ाई ऑनलाइन चल रही है, लेकिन दिवाली अवकाश के बाद 11 नवंबर से दूसरे सत्र की शुरुआत होगी। शिक्षण संचालनालय ने सभी जिलों की स्थिति पर ऑनलाइन चर्चा कर स्थिति का जायजा लिया। टास्कफोर्स को पूरी जानकारी दी गई है। अब टास्कफोर्स से हरी झंडी मिलने का इंतजार है।

इन जिलों में खुलेंगे स्कूल
राज्य के 17 जिले कोविड मुक्ति के पायदान पर हैं। इसमें नागपुर, चंद्रपुर, गड़चिरोली, भंडारा, वर्धा, गोंदिया, यवतमाल, वाशिम, अकोला, अमरावती, बुलढाणा, नांदेड़, परभणी, हिंगोली, जालना, नंदूरबार, धुले आदि जिलों का समावेश है। इन जिलों में स्कूल खोलने पर शिक्षा विभाग विचार कर रहा है।

विद्यार्थियों पर सख्ती नहीं
शिक्षा विभाग के अनुसार स्कूल खुलेंगे, लेकिन विद्यार्थियों पर उपस्थिति की सख्ती नहीं रहेगी। गणवेश के लिए भी सख्ती नहीं की जाएगी। विद्यार्थियों की उपस्थिति के लिए पालकों से पूर्व अनुमति-पत्र की भी आवश्यकता नहीं रहेगी।

अभी आदेश नहीं मिला है
ग्रामीण क्षेत्र में पहली कक्षा से स्कूल खोलने के लिए सरकारी स्तर पर विचार चल रहा है। शालेय शिक्षा मंत्री ने भी स्कूल खोलने के संकेत दिए हैं। हालांकि अभी आदेश नहीं मिला है। सरकार से आदेश मिलने पर नियोजन किया जाएगा।
-चिंतामण वंजारी, जिला शिक्षणाधिकारी, (प्राथमिक), जिला परिषद

प्रथम सत्र परीक्षा ऑफलाइन : स्कूल बंद रहने से विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाया गया। स्कूल खुलने पर प्रथम सत्र की परीक्षा ऑफलाइन होगी। अधिकांश स्कूलों में प्रथम सत्र की परीक्षा दिवाली के बाद होनी है। इसलिए दिवाली अवकाश में भी विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी करनी होगी।