दैनिक भास्कर हिंदी: चकमा दे गया साढ़े 5 लाख का इनामी डकैत, 2 टीमों ने की मैराथन सर्चिंग

November 14th, 2018

डिजिटल डेस्क, सतना। तराई में आतंक का पर्याय बन चुके साढ़े 5 लाख के इनामी डकैत को घेरने की एक और कोशिश नाकाम हो गई। मंगलवार को गढ़ी परासिन से अमरावती के बीच गिरोह के मौजूद होने की सूचना पर 2 टीमों को सर्चिंग के लिए रवाना किया गया, लेकिन घंटों की कवायद के बावजूद सफलता कोसों दूर रही। घने जंगल और घाटियों-पहाडिय़ों से भरे इलाके की दुस्वारियों को झेलते हुए पुलिस जब तक संभावित ठिकानें तक पहुंची डकैत किसी दूसरे अड्डे की तरफ कूच कर चुके थे।

इन इलाकों में पहुंची पुलिस
साढ़े 5 लाख के इनामी गैंग लीडर बबुली कोल, 1 लाख 30 हजार के इनामी डकैत लवलेश कोल समेत गिरोह की तलाश में मझगवां टीआई केपीएस टेकाम और एडी दस्ता प्रभारी ओपी सिंह की टीम ने कुसमुही, जमुनिहाई, टिकरिया, घोरसरी, त्रिवेणी के जंगल की खाक छानते हुए चौरहा तक सर्चिंग की। वहीं नयागांव थाने के एएसआई कप्तान सिंह ने अपने दस्ते के साथ गढ़ी-परासिन, सरसिन जंगल, बरकत बाबा, अमरावती के रास्ते पंच प्रयाग के इलाके में सर्चिंग की। लेकिन अपने मुखबिरों की सूचना और भौगोलिक स्थिति का फायदा उठाकर अंतर्राज्यीय गिरोह अमरावती से लखनपुर की तरफ कूच कर गया। गौरतलब है कि बगदरा घाटी में अपहरण के बाद से सतना और कर्वी की पुलिस सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के साथ ही ज्वाइंट सर्चिंग   कर गिरोह को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रही।

मछुआरों पर बरपाया कहर
जानकारी के मुताबिक बगदरा घाटी अपहरणकांड के बाद छिपते फिर रहे बबुली गिरोह पर दबाव बनाने के लिए एमपी और यूपी की पुलिस ने उसके मददगारों पर शिकंजा कस दिया है, जिससे बौखलाए डकैत निर्दोष आदिवासियों पर कहर बरपा रहे हैं। विगत दिवस मारकुंडी थाना क्षेत्र में टिकरिया के पास मछली पकडऩे गए ग्रामीणों को बबुली और उसके साथियों ने बंदूक की बटों से पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था। डकैतों का सीधा फरमान था कि हर हाल में उनके पास तक खाने-पीने का सामान पहुंचना चाहिए वरना किसी की जान नहीं बचेगी। डकैतों के कहर का शिकार हुए पीडि़तों ने हालांकि पुलिस से शिकायत नहीं की है परन्तु इस घटना के बाद जंगल जाने से कतराने लगे हैं।