वसूली का आरोप: परमबीर सिंह के खिलाफ दर्ज हुई एक और एफआईआर

August 21st, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पूर्व मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ वसूली के आरोप में एक और एफआईआर दर्ज की गई है। सिंह के खिलाफ यह एफआईआर बिल्डर विमल अग्रवाल ने गोरेगांव पुलिस  स्टेशन में दर्ज कराई है।  मामले में सिंह के अलावा बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे, सुमीत सिंह उर्फ चिंटू, अल्पेश पटेल, विनय सिंह उर्फ बबलू व रियाज भाटी को भी आरोपी बनाया गया है। अग्रवाल की शिकायत के मुताबिक आरोपियों ने उसके दो बार व रेस्टोरेंट पर छापेमारी की कार्रवाई न करने के लिए नौ लाख  रुपए लिए थे। इसके अलावा आरोपियों ने उसे दो लाख 92 हजार रुपए के दो स्मार्टफोन खरीद कर देने के लिए मजबूर किया था। घटना जनवरी 2020 से मार्च 2021 के बीच हुई है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने इस मामले में 6 आरोपियों  के खिलाफ भारतीय दंड  संहिता की धारा 384,385 व 34 के  खिलाफ मामला दर्ज  किया  है। 

दर्ज हुई चौथी प्राथमिकी 
वसूली के आरोप को लेकर सिंह के खिलाफ यह चौथी एफआईआर है। जिसमें दो मुंबई में दर्ज हुई है। जबकि दो एफआईआर ठाणे में दर्ज की गई है। सिंह  के खिलाफ यह सारी एफआईआर एक महीने के भीतर दर्ज की गई है। सिंह वर्तमान में होमगार्ड के महानिदेशक पद पर तैनात हैं। लेकिन वे फिलहाल छुट्टी पर है। गौरतलब है कि  सिंह के खिलाफ 22 जुलाई 2021 को मरिनड्राइव पुलिस स्टेशन में वसूली के आरोप में एफआईआर दर्ज कराई गई थी। अगले  दिन इसी तरह के  आरोप  को लेकर ठाणे  के कोपरी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई गई थी। 30 जुलाई 2021 को ठाणे के नगर पुलिस स्टेशन में हफ्ता वसूली के  आरोप में सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई थी। अब शुक्रवार की रात गोरेगांव पुलिस स्टेशन में सिंह के खिलाफ वसूली  के आरोप में एफआईआर दर्ज कराई गई है। इस तरह से सिंह के खिलाफ वसूली के आरोप में अब तक कुल 4 एफआईआर दर्ज हो चुकी है। गौरतलब है कि उद्योगपति मुकेंश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक लदी कार मिलने के मामले में बर्खास्त पुलिस अधिकारी वाझे की मार्च 2021 में गिरफ्तारी के बाद सिंह का मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से पुलिस महानिदेशक (होमगार्ड)  के पद पर तबादला कर दिया गया था। इसके बाद  सिंह ने तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ सौ करोड़ रुपए की  वसूली के आरोप लगाए थे। 

  

खबरें और भी हैं...