दैनिक भास्कर हिंदी: हाईटेंशन लाइन पर गिरा फ्लैग पोल, CRPF के ASI की करंट से मौत, दो साथी बाल-बाल बचे

January 24th, 2019

डिजिटल डेस्क, बालाघाट। सीआरपीएफ बटालियन के जवान एएसआई यश भारती की आज सुबह 26 जनवरी की तैयारी के दौरान करंट लगने से मौत हो गई। जबकि दो अन्य जवान बाल-बाल बच गये। करंट हादसे का शिकार बना सीआरपीएफ 123 बटालियन का जवान किरनापुर थाना अंतर्गत किन्ही चौकी स्थित सीआरपीएफ कैंप में जनरल ड्युटी पर तैनात था। मूलत: तमिलनाडु के वेल्लुर के तहसील गुदियातम के पारादरमी पुलिस थाना अंतर्गत ग्राम रामालाई निवासी 50 वर्षीय यश पिता व्ही. सारथी, एएसआई के पद पर पदस्थ था।

चल रही थी 26 जनवरी की तैयारी
सीआरपीएफ बटालियन का जवान यश भारती आज सुबह प्लाटून कमांडर एवं एक अन्य जवान के साथ 26 जनवरी को होने वाले ध्वजारोहण कार्यक्रम की तैयारी कर रहा था। जहां ध्वजारोहण स्थल पर जवान यश भारती अपने सहयोगी कर्मियो के साथ लोहे के लंबे से पाईप को लगाने के काम में जुटा था। जवान यश भारती सहित अन्य दो कर्मी लोहे के पाईप को नीचे से पकड़कर उसे ध्वजारोहण स्थल पर जमा रहे थे, इस दौरान ही ऊपरी हिस्से से पाईप अनबैलेंस होकर पास से गुजर रही हाईटेंशन 11 के.व्ही. लाईन के संपर्क में आ गया। जिससे करंट पाईप में प्रवाहित होने से लोहे के पाईप को पकड़े जवान यश भारती  करंट के संपर्क में आने से तत्काह ही बेहोश होकर गिर पड़ा। जिसके अन्य साथी कर्मियों द्वारा किसी तरह किरनापुर अस्पताल लाया गया। जहां से उसे जिला चिकित्सालय लाया गया। यहां चिकित्सको ने उसे देखते ही मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी के बाद सीआरपीएफ कमांडेट रघुवंश कुमार, कलेक्टर दीपक आर्य, पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी सहित बटालियन के अधिकारी अस्पताल पहुंचे। जहां अस्पताल चौकी पुलिस ने शव बरामद कर पंचनामा कार्यवाही के बाद शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव सौंप दिया।

चार जवान हो चुके हैं शहीद
 सीआरपीएफ बटालियन की ओर से मिली जानकारी अनुसार मृत जवान यश भारती के शव को श्रद्वाजंली देने के उपरांत उसके गृहग्राम भेजा जायेगा। जहां उसका अंतिम संस्कार होगा। विगत एक पखवाड़े में सुरक्षाबलों के साथ हुए हादसे में चार जवान शहीद हो गये। जहां गत दिनों विधानसभा उपाध्यक्ष के फॉलो वाहन में सवार एक पुलिस अधिकारी सहित दो पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे। वहीं आज ड्युटी के दौरान एक सीआरपीएफ का जवान शहीद हो गया। जिससे सुरक्षा में तैनात जवानो में शोक का माहौल है।